Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

Hindi Cricket News: बीसीसीआई ने श्रीसंत के ऊपर लगे आजीवन प्रतिबंध को घटाकर किया 7 साल, अगले साल से खेल सकेंगे क्रिकेट

श्रीसंत
श्रीसंत
Neeraj P
ANALYST
Modified 20 Aug 2019
न्यूज़

स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में आजीवन प्रतिबंध झेल रहे भारतीय तेज गेंदबाज एस. श्रीसंत को बीसीसीआई लोकपाल ने राहत भरी खबर सुनाई है। बीसीसीआई लोकपाल डीके जैन ने अपने आदेश में कहा है कि श्रीसंत का बैन आजीवन से घटाकर 7 साल का कर दिया गया है और अगले साल अगस्त में उनका बैन समाप्त हो जाएगा।

2013 में बीसीसीआई ने राजस्थान रॉयल्स के लिए खेल रहे श्रीसंत के साथ ही अजीत चंदीला और अंकित चव्हाण को स्पॉट फिक्सिंग के कारण आजीवन बैन कर दिया था। हालांकि, इसी साल 15 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई के आदेश को खारिज कर दिया था।

7 अगस्त को पास किए आदेश में जैन ने कहा कि श्रीसंत के साथ न्याय किया जाना चाहिए और उनका प्रतिबंध 7 साल करके उन्हें अगले साल से खेलने का मौका दिया जाना चाहिए। जैन ने आगे कहा कि श्रीसंत 35 साल से ज़्यादा के हो चुके हैं और एक तेज गेंदबाज के रूप में उनका प्राइम टाइम लगभग समाप्त हो चुका है।

यह भी पढ़ें: इंडिया ए के 4 खिलाड़ी जिन्हें वनडे टीम में जगह मिलनी चाहिए 

इसी साल अप्रैल में अशोक भूषण और केएम जोसेफ की न्यायपीठ ने कहा था कि जैन को अपने आदेश पर तीन महीने के भीतर पुनर्विचार करना चाहिए और श्रीसंत को दिए गए दंड में संसोधन किया जाना चाहिए। 28 फरवरी को बीसीसीआई ने कहा था कि श्रीसंत पर लगाया गया बैन पूरी तरह सही है, क्योंकि उन्होंने एक मैच को प्रभावित करने की कोशिश की थी।

श्रीसंत के वकील ने कहा था कि आईपीएल मुकाबले में कोई स्पॉट-फिक्सिंग नहीं हुई थी और श्रीसंत पर लगाए आरोपों को साक्ष्यों द्वारा साबित नहीं किया जा सका था। बीसीसीआई की वकालत कर रहे सीनियर एडवोकेट पराग त्रिपाठी ने टेलीफोन रिकॉर्डिंग का हवाला देते हुए कहा था कि पैसों की मांग की गई थी और शायद पैसे लिए भी गए थे।

हालांकि अब श्रीसंत को बड़ी राहत मिल गई है और अगले साल से वो क्रिकेट दोबारा खेल सकेंगे।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं।

Published 20 Aug 2019, 17:06 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now