Create
Notifications
Advertisement

सचिन तेंदुलकर ने एक मैच में अम्पायर की गलती का जिक्र किया

  • सचिन तेंदुलकर आजकल अपने पुराने दिनों को ताजा करने में लगे हैं
  • अपने समय के कई मैचों का जिक्र सचिन तेंदुलकर करते हुए नजर आते हैं
Naveen Sharma
FEATURED WRITER
न्यूज़
Modified 20 May 2020, 14:24 IST

  सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

पूर्व भारतीय कप्तान और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने करियर के एक मैच का जिक्र किया है जिसमें उन्हें गलत आउट दिया गायत था। वेस्टइंडीज के खिलाफ 199\7 में वनडे मुकाबले के दौरान सचिन तेंदुलकर को विकेट के पीछे आउट दिया गया था। सचिन तेंदुलकर ने अब इस पर बात करते हुए अम्पायर की गलती बताई है। आम तौर पर क्रिकेट की अंदरूनी चीजों पर कम बात करने वाले सचिन तेंदुलकर आजकल कई प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। क्रिकेट डॉट कॉम से बातचीत करते हुए उन्होंने कुछ बातें कही।

"मैं आक्रमण करने में समर्थ था और कर्टली एम्ब्रोस की गेंद पर विकेट के पीछे आउट होने से पहले मैंने 44 रन बनाए थे, वह अम्पायर का गलती थी। वह बारिश से प्रभावित मैच था और हम मैच हार गए थे। पूरी तरह से मुश्किल परिस्थितियों थी जिसमें बल्लेबाजी करनी थी, मैं अपनी उस पारी को करियर की पसंदीदा पारियों में से एक मानता हूं।"

यह भी पढ़ें: आईसीसी क्रिकेट कमेटी ने गेंद पर लार का प्रयोग बंद करने की सिफारिश की

सचिन तेंदुलकर के सामने थे आक्रामक गेंदबाज

 सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

उस समय वेस्टइंडीज की गेंदबाजी खतरनाक हुआ करती थी। कर्टली एम्ब्रोस, कर्टनी वॉल्श, इयान बिशप और फ्रैंकलिन रोज जैसे तेज गेंदबाज टीम में हुआ करते थे। पिच में बादलों की वजह से नमी थी और बल्लेबाजी करना मुश्किल था। सचिन तेंदुलकर ने 43 गेंद पर 44 रन बनाए लेकिन कर्टली एम्ब्रोस की गेंद पर विकेट के पीछे लपके गए। तेंदुलकर के अनुसार वह अम्पायर की गलती थी। भारत की टीम मैच में 179 रन पर आउट हो गई थी। रिवाइज्ड लक्ष्य में विंडीज को 146 रन बनाने थे।


 सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

Advertisement

सचिन तेंदुलकर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए दो अन्य मैचों का जिक्र भी किया जिसमें उन्होंने ग्लेन मैक्ग्रा को सेटल नहीं होने देने के इरादे से चौके छक्के जड़े थे। वे मैच आईसीसी नॉक आउट ट्रॉफी और द्विपक्षीय सीरीज के अंतर्गत खेले गए थे।

पूर्व भारतीय कप्तान ने इससे पहले भी कुछ बातों के खुलासे किये थे। इनमें 2011 वर्ल्ड कप में महेंद्र सिंह धोनी को युवराज सिंह से ऊपर बल्लेबाजी के लिए भेजने की रणनीति पर प्रतिक्रिया दी थी। कोरोना वायरस के कारण चल रहे लॉक डाउन में तेंदुलकर क्रिकेटिंग वर्ल्ड की कई बातों का जिक्र कर चुके हैं।


Published 20 May 2020, 14:24 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit