कानपुर वनडे के दौरान हरभजन सिंह ने मुझसे डिफेंस करने के लिए कहा और मैं उसी वजह से आउट हो गया - शाहिद अफरीदी

Nitesh
शाहिद अफरीदी ने इस मैच से जुड़ा बड़ा खुलासा किया
शाहिद अफरीदी ने इस मैच से जुड़ा बड़ा खुलासा किया

भारत और पाकिस्तान के बीच एशिया कप (Asia Cup) में मुकाबले से पहले दोनों देशों के बीच मुकाबले की कई कहानियां निकलकर सामने आ रही हैं। इसी कड़ी में पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) ने भी एक बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कानपुर वनडे मैच का जिक्र किया जिसमें उन्होंने ताबड़तोड़ शतक लगाया था। अफरीदी ने कहा कि उस मैच में अगर हरभजन सिंह उनसे डिफेंस करने के लिए ना कहते तो वो आउट ना होते।

दरअसल भारत और पाकिस्तान के बीच 2005 में कानपुर में वनडे मुकाबला खेला गया था जिसमें पाकिस्तानी टीम ने 5 विकेटों से जीत हासिल की थी। भारत ने पहले खेलते हुए 6 विकेट पर 249 रन बनाए थे और पाकिस्तान ने इस टार्गेट को शाहिद अफरीदी की धुआंधार पारी की बदौलत 42.1 ओवर में ही 5 विकेट खोकर हासिल कर लिया था। शाहिद अफरीदी ने उस मुकाबले में सिर्फ 46 गेंद पर 10 चौके और 9 छक्के लगाते हुए 102 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली थी।

हरभजन सिंह ने शाहिद अफरीदी को बोल्ड आउट कर उन्हें पवेलियन भेजा था। वहीं अफरीदी ने इस मैच को लेकर बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि हरभजन ने उनसे डिफेंस करने की गुजारिश की थी और ऐसा करते ही वो बोल्ड हो गए।

छक्के वाली बॉल मैंने डिफेंस कर दी थी - शाहिद अफरीदी

पाकिस्तानी न्यूज चैनल समा टीवी पर बातचीत के दौरान शाहिद अफरीदी ने कहा 'मैच से एक दिन पहले हरभजन सिंह ने मुझसे कहा था कि लाला तुम्हे कल ख्याल रखना है मेरा। मैंने कहा कि ठीक है। मैं 96 रन पर था तो हल्का सा पुश किया और वो चौका हो गया और मेरा शतक भी पूरा हो गया। इसके बाद हरभजन सिंह ने मेरी तरफ देखा। मैंने अगली बॉल को रोका और जैसे ही ऐसा किया वो गेंद विकेट के अंदर आ गई और मैं आउट हो गया। इसके बाद मैंने भज्जी की तरफ देखकर सोचा कि छक्के वाली बॉल मैंने रोक दी।'

Quick Links

Edited by Nitesh