Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

ओपिनियन: शाकिब अल हसन-बेहतरीन गेंदबाजी और क्लासिकल बल्लेबाजी का शानदार मिश्रण

SENIOR ANALYST
फ़ीचर
479   //    06 Jul 2019, 12:19 IST

शाकिब अल हसन
शाकिब अल हसन

वर्ल्ड कप 2019 का जब आगाज हुआ था तो किसी ने सोचा नहीं था कि लीग मैच लगभग खत्म होने तक बांग्लादेश के दिग्गज ऑलराउंडर शाकिब अल हसन मैन ऑफ द टूर्नामेंट के दावेदार होंगे। सब लोग विराट कोहली, डेविड वॉर्नर, स्टीव स्मिथ, रोहित शर्मा, केन विलियम्सन, जोस बटलर, मिचेल स्टार्क और जसप्रीत बुमराह जैसे खिलाड़ियों के बारे में ही बात कर रहे थे। शाकिब अल हसन के ऊपर उतनी चर्चा नहीं हुई थी। हालांकि अब शाकिब अल हसन प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट के सबसे बड़े दावेदार हैं।

9 मैचों में 606 रन और 11 विकेट, ये आंकड़े दर्शाते हैं कि इस वर्ल्ड कप में शाकिब अल हसन का क्या प्रभाव रहा है। वो वर्ल्ड कप इतिहास में ग्रुप स्टेज में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बन गए हैं। इससे पहले ये रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर के नाम था, जिन्होंने 2003 के वर्ल्ड कप में ग्रुप स्टेज में 586 रन बनाए थे। इसके अलावा किसी एक वर्ल्ड कप में वो 600 से ज्यादा रन बनाने वाले तीसरे बल्लेबाज बने। टीम के दूसरे खिलाड़ियों ने अगर साथ दिया होता तो बांग्लादेश की टीम सेमीफाइनल में जरूर पहुंचती। याद कीजिए 2011 के वर्ल्ड कप में युवराज सिंह ने भी कुछ इसी तरह का प्रदर्शन किया था। उस वर्ल्ड कप में उन्होंने 9 मैचों में 362 रन बनाए थे और 15 विकेट भी चटकाए थे। भारत ने वो वर्ल्ड कप अपने नाम किया था। शाकिब का प्रदर्शन इससे कहीं बेहतर रहा, लेकिन उन्हें टीम के बाकी खिलाड़ियों का साथ नहीं मिला और इसी वजह से उनकी टीम टूर्नामेंट से बाहर हो गई है। बांग्लादेश के कप्तान ने भी ये बात मानी।

देखा जाए तो कई सालों से शाकिब बांग्लादेश के क्रिकेट की धुरी रहे हैं। वो बांग्लादेश से एकमात्र क्रिकेटर हैं जो नियमित तौर पर लगातार आईपीएल खेल रहे हैं। आम तौर पर पहले उनकी टीम में भूमिका मुख्य स्पिन गेंदबाज की थी और निचले क्रम में वो बल्लेबाजी करने आते थे। हालांकि इस वर्ल्ड कप से पहले उन्होंने टीम मैनेजमेंट से खुद कहा कि वो तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करना चाहते हैं। इसके लिए उन्हें सभी को मनाना पड़ा और नतीजा सबके सामने है। टीम का सीनियर और अनुभवी खिलाड़ी होने की भूमिका उन्होंने बखूबी निभाई और जबरदस्त प्रदर्शन किया। वेस्टइंडीज के खिलाफ 322 रनों का पीछा बांग्लादेश ने महज 42 ओवर में ही कर दिया, जिसमें शाकिब ने बेहतरीन शतक लगाया। ये एक ऐसी जीत थी जो लंबे समय तक याद रखी जाएगी।

शाकिब ने इस वर्ल्ड कप में 606 रन बनाए। ये एक ऐसा कारनामा है जो बड़े से बल्लेबाज भी नहीं कर पाते हैं। उनकी बैटिंग भी इस दौरान लाजवाब रही। रोहित शर्मा इस वक्त दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं लेकिन ये भी सच है कि वो ओपनिंग करने आते हैं और जब भी उन्होंने इस टूर्नामेंट में शतक लगाया है, उससे पहले उन्होंने विरोधी टीम को एक मौका जरूर दिया है। चाहे वो दक्षिण अफ्रीका का मैच हो, पाकिस्तान का मैच हो, इंग्लैंड का मैच हो या फिर बांग्लादेश का मैच। दूसरी तरफ शाकिब अल हसन जब तक खेले हैं उनकी बल्लेबाजी एकदम परफेक्ट रही है। उन्होंने किसी भी समय गेंदबाज या फील्डर को कोई मौका नहीं दिया। उनके शॉट्स देखकर ये नहीं लगा कि ये टीम में एक ऑलराउंडर का रोल अदा करते हैं। एक भरपूर बल्लेबाज की तरह उन्होंने अपने शॉट लगाए और रन बनाए।

शाकिब की उम्र इस वक्त 32 साल है, ऐसे में वो एक और वर्ल्ड कप खेल सकते हैं। ऐसे में वो चाहेंगे कि अगले संस्करण में उनकी टीम और बेहतर प्रदर्शन करे और जीत के साथ वो क्रिकेट को अलविदा कहें।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं

Tags:
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...