Create
Notifications
Advertisement

शोएब अख्तर ने बताया क्यों चाहते हैं भारत-पाक का मैच, कहा- कपिल देव ने नहीं समझी मेरी बात

  • शोएब अख्तर ने बताया है कि वे भारत और पाकिस्तान के बीच क्यों चाहते हैं कि मैच हो
  • उन्होंने कपिल देव के लिए कहा कि उन्होंने उनकी बात नहीं समझी और जवाब दिया
CONTRIBUTOR
न्यूज़
Modified 12 Apr 2020, 13:21 IST

शोएब अख्तर
शोएब अख्तर

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर भारत और पाकिस्तान के बीच मैच कराने वाले बयान को लेकर सुर्खियों में हैं। उनके इस बयान पर भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव ने भी जवाब दिया था। अब इसे लेकर शोएब अख्तर का फिर से बयान सामने आया है।

दरअसल, शोएब अख्तर ने कहा था कि इस कोरोनावायरस की महामारी के बीच अगर भारत और पाकिस्तान का मैच होगा तो धन जुटाने में मदद मिलेगी। इसका जवाब देते हुए कपिल देव ने कहा था कि धन की जरूरत नहीं है। भारत के पास पर्याप्त पैसा है। जरूरत है संसाधनों की। इसे लेकर आजतक से बात करते हुए शोएब अख्तर ने एक बार फिर से अपनी राय रखी है।

ये भी पढ़ें: शेन वॉटसन ने धोनी को दिया धन्यवाद, कहा- इसके लिए हमेशा रहुंगा शुक्रगुजार

शोएब अख्तर ने कहा कि "मुझे नहीं लगता कि कपिल भाई समझ पाए कि मैं क्या कहना चाह रहा था। सभी लोग आर्थिक रूप से फंसने वाले हैं। यह समय एक साथ रहने और राजस्व उत्पन्न करने का है। मैं बड़े परिप्रेक्ष्य के आर्थिक सुधारों के बारे में बात कर रहा हूँ। कपिल ने कहा कि उन्हें पैसों की जरूरत नहीं है। निश्चित रूप से नहीं होगी, लेकिन बाकियों को है। भारत पाक के मैच से राजस्व उत्पन्न होगा। मुझे लगता है यह सुझाव ध्यान में लिया जाएगा।"

शोएब अख्तर ने कहा कि "मैं केवल पूछ रहा था कि अगले छह महीनों के लिए हमारे पास क्या विकल्प हैं। क्रिकेट की वजह से नौकरी करने वाले सभी लोग क्या करेंगे? उन लोगों का क्या होगा जिनकी आजीविका क्रिकेट पर निर्भर करती है? समय आ गया है कि हम साथ में सोचें और योजना बनाएं कि हम राजस्व कैसे उत्पन्न करेंगे। हमारे पास एकमात्र विकल्प है यह मैच, जिससे राजस्व इकट्ठा होगा।"

उन्होंने कहा कि “मैंने कहा था कि मैं खुद प्रधानमंत्री इमरान खान से भी ज्यादा भारत को जानता हूं। मैंने कई क्षेत्रों की यात्रा की है और वहां के कई लोगों के साथ बातचीत की है। मैं यहां लोगों को बताता रहता हूं कि भारतीय क्या हैं। हमारे देशों में बहुत गरीबी है। जब लोग पीड़ित हैं, तो मैं दुखी हूं। एक इंसान और एक मुसलमान के रूप में, मेरी जिम्मेदारी है कि मैं जितनी मदद कर सकूं, करूंगा। ”


Published 12 Apr 2020, 13:21 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit