Create
Notifications

"शेन वॉर्न जैसा कप्तान न होना ऑस्ट्रेलिया का दुर्भाग्य रहा"- RR के द्वारा कही गयी बात का शोएब अख्तर ने किया खुलासा 

शेन वॉर्न ने आईपीएल में अपनी कप्तानी से सभी को प्रभावित किया था
शेन वॉर्न ने आईपीएल में अपनी कप्तानी से सभी को प्रभावित किया था
reaction-emoji
Prashant Kumar

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने दिग्गज लेग स्पिनर शेन वॉर्न (Shane Warne) के निधन के बाद उनकी आईपीएल (IPL) टीम राजस्थान रॉयल्स (RR) के सदस्यों से हुई बातचीत का खुलासा किया। अख्तर ने याद किया और बताया कि उनसे कहा गया कि वॉर्न का ऑस्ट्रेलिया का कप्तान न बनना दुर्भाग्य रहा।

ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज का 4 मार्च को हार्ट अटैक आने से निधन हो गया था। वॉर्न महज 52 साल के थे और उनके अच्छा चले जाने से पूरा क्रिकेट जगत स्तब्ध रह गया था।

आईपीएल 2008 में शेन वॉर्न ने युवाओं से सजी हुई टीम को पहले ही सीजन में चैंपियन बनवाकर अपनी नेतृत्व क्षमता को साबित किया था। उनकी टीम को लेकर किसी ने भी नहीं सोचा था कि ख़िताब जीतेगी लेकिन वॉर्न ने नए लड़कों से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन हासिल कर राजस्थान को चैंपियन बनाया था।

स्पोर्ट्सकीड़ा पर बात करते शोएब अख्तर ने राजस्थान फ्रेंचाइजी का शेन वॉर्न के प्रति स्नेह और सम्मान के बारे में बताया। उन्होंने कहा,

मैंने उस समय (वॉर्न की मौत के बाद) राजस्थान की टीम से बात की थी। उन्होंने मुझसे खुलकर कहा, 'मैं आपको एक बात बता दूं, शोएब- ऑस्ट्रेलिया का दुर्भाग्य था कि शेन वार्न जैसा कप्तान नहीं था। वह एक महान करैक्टर, एक मैच विजेता और साथ ही एक महान लीडर थे। वह ड्रेसिंग रूम में एक अद्भुत करैक्टर थे।' राजस्थान रॉयल्स उनके बारे में यही सोचता है।
youtube-cover

आपको बता दें कि शेन वॉर्न ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। इस दिग्गज को कभी भी अपने देश की कप्तानी करने का मौका नहीं मिला था लेकिन उन्होंने आईपीएल में अपनी लीडरशिप का बखूबी परिचय दिया।

वॉर्न ने 2008-2011 के बीच राजस्थान के लिए 55 मुकाबले खेले और 7.27 की इकॉनमी रेट से 57 विकेट अपने नाम किये।


Edited by Prashant Kumar
reaction-emoji

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...