Create

शोएब अख्तर ने 2004 के न्यूजीलैंड दौरे को लेकर साझा किया मजेदार किस्सा

शोएब अख्तर ने एक दिलचस्प किस्सा साझा किया
शोएब अख्तर ने एक दिलचस्प किस्सा साझा किया

पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने 2004 के न्यूजीलैंड दौरे (NZ vs PAK) को याद करते हुए एक मजेदार किस्सा बताया। उन्होंने बताया कि किस तरह वह चोटिल होने के बावजूद बंजी जंपिंग के लिए गए थे। अख्तर को चोटिल होने के कारण टीम मैनेजमेंट ने आराम करने की सलाह दी थी, ताकि उनको चोट से उबरने के लिए और समय मिले।

पाकिस्तान ने साल 2004 में न्यूजीलैंड का दौरा किया था, जहाँ टीम ने दो टेस्ट और पांच वनडे मैच खेले थे। अख्तर को एक ट्रेनिंग सेशन के दौरान कमर में चोट लग गई थी और इस वजह से उन्हें शुरूआती कुछ वनडे मुकाबलों से बाहर बैठना पड़ा था।

उस वाकये को याद करते हुए दिग्गज तेज गेंदबाज ने बताया कि किस तरह उन्होंने टीम मैनेजमेंट की आराम करने की सलाह को नजरअंदाज कर दिया था और मजे के लिए निकल गए थे। स्पोर्ट्सकीड़ा के साथ बातचीत के दौरान उन्होंने कहा,

मुझे याद है कि 2004 के न्यूजीलैंड दौरे के दौरान मैनेजमेंट ने मुझे आराम करने के लिए कहा था क्योंकि मैं चोटिल हो गया था। मुझे स्पष्ट रूप से निर्देश दिया गया था कि मैं ऐसा कुछ भी न करूं जिससे दौरे के दौरान मेरे मैच खेलने की संभावना को ठेस पहुंचे। जैसे ही सभी लोग आधिकारिक रात के डिनर के लिए निकले, मैंने एक हेलीकॉप्टर बुक किया और बंजी जंपिंग के लिए निकल पड़ा, इस बात को अनदेखा करते हुए कि मुझे एक गेंद से कमर पर चोट लगी थी। जैसी कि उम्मीद थी, एक्सरसाइज के बाद मुझे दर्द हो रहा था।
youtube-cover

अख्तर ने समझाया कि उन्हें खेल से इस तरह के ब्रेक लेना पसंद था क्योंकि इससे वह रेजुवेनेट (तरोताजा) हो जाते थे।

मैनेजमेंट से मुझे ज्यादा सपोर्ट नहीं मिला - शोएब अख्तर

अपने खेलने के दिनों के बारे में बोलते हुए, अख्तर ने दावा किया कि आराम के मामले में उन्हें राष्ट्रीय या घरेलू स्तर पर प्रबंधन से पर्याप्त समर्थन नहीं मिला। उन्होंने कहा,

मेरे खेलने के दिनों में, एक ब्रेक मुझे हमेशा तरोताजा कर देता था। लेकिन टीम मैनेजमेंट ने मुझे समझा नहीं। फर्स्ट क्लास के स्तर पर भी कहानी वही थी। मैच के दौरान या अभ्यास के दौरान, मैं हमेशा अपने पूरे रन-अप से गेंदबाजी करता था। मैंने दौड़ कर ही पृथ्वी के सरकमफेरेंस की लगभग तीन गुनी दूरी तय की है। मैनेजमेंट को अधिक सावधान रहना चाहिए था और मुझे एक सीरीज के दौरान पांच में से केवल तीन वनडे मैचों में ही खिलाया जाना चाहिए था।

अख्तर अपने करियर के दौरान कई बार चोटिल हुए लेकिन इसके बावजूद उन्होंने अपने देश के लिए 46 टेस्ट, 163 वनडे और 15 टी20 मैच खेलने में कामयाबी हासिल की।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment