Create
Notifications

भारत-ऑस्ट्रेलिया के रांची टेस्ट मैच फिक्सिंग की खबरों के बाद आईसीसी की जांच में बड़ा खुलासा

निरंजन
visit

अल जजीरा की डॉक्यूमेंट्री में फिक्सिंग के बारे में बताए जाने के बाद आईसीसी (ICC) ने जांच कराने का निर्णय लिया था जो पूरी हो गई है और उसमें किसी तरह की फिक्सिंग नहीं होने की बात सामने आई है। अल जजीरा ने क्रिकेट्स मैच फिक्सर्स नाम से एक डॉक्यूमेंट्री रिलीज की गई थी जिसमें कहा गया कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2017 में हुआ टेस्ट और भारत-इंग्लैंड के बीच 2016 में हुआ चेन्नई टेस्ट फिक्स था। दो ऑस्ट्रेलियाई और तीन इंग्लिश क्रिकेटरों को फिक्सिंग में शामिल बताते हुए कहा गया कि इन्होंने फिक्सिंग के लिए बुकी से सम्पर्क किया था।

आईसीसी ने कहा कि उसने चार स्वतंत्र सट्टेबाजी और क्रिकेट विशेषज्ञों को यह आकलन करने के लिए लगाया कि क्या कार्यक्रम में उजागर किए गए खेल के अंश किसी भी तरह से असामान्य थे। जांच के बाद सभी चार विशेषज्ञों ने निष्कर्ष निकाला कि खेल के वे मार्ग, जिन्हें कार्यक्रम में कथित रूप से तय किए जाने के रूप में पहचाना गया था, वे पूरी तरह से अनुमानों के आधार पर तय किये गए थे इसलिए फिक्स असंभव था।

आईसीसी ने की ध्यान से जांच

व्यापक जांच के बाद आईसीसी ने खुलासा किया और कहा कि तीन मुख्य क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित किया गया। इसमें कार्यक्रम द्वारा किए गए दावे, संदिग्ध जो इसका हिस्सा थे और कार्यक्रम ने इसके सबूत कैसे एकत्र किए। दस्तावेजी कार्यक्रम के सभी पांच प्रतिभागियों का भी आईसीसी की इंटीग्रिटी यूनिट द्वारा इंटरव्यू लिया गया जिसने बदले में निष्कर्ष निकाला कि कोई भी आरोप लगाने के लिए कोड के माध्यम से लागू सामान्य सीमाओं के आधार पर अपर्याप्त सबूत हैं।

आईसीसी के जनरल मैनेजेर एलेक्स मार्सल ने कहा कि कार्यक्रम के आधार पर कोड के जिन प्रतिभागियों को फिल्माया गया था, उन्होंने एक संदिग्ध तरीके से व्यवहार किया है। हालांकि स्क्रीन पर जो देखा गया था उससे परे हुई बातचीत के पूर्ण संदर्भ का आकलन करने में वे असमर्थ रहे हैं।


Edited by निरंजन
Article image

Go to article

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now