रिटायरमेंट से वापसी करते ही दिग्गज क्रिकेटर पर लगा बैन, T20 वर्ल्ड कप के लिए हुआ फायदा

Pakistan v Sri Lanka - Final DP World Asia Cup
Pakistan v Sri Lanka - Final DP World Asia Cup

श्रीलंका के दिग्गज स्पिनर वनिंदू हसरंगा (Wanindu Hasaranga) पर दो टेस्ट मैचों का बैन लगा है। हसरंगा ने हाल ही में टेस्ट क्रिकेट में संन्यास से वापसी की थी लेकिन आते ही उनके ऊपर दो टेस्ट मैचों का बैन लग गया है। आईसीसी का कोड ऑफ कंडक्ट तोड़ने के लिए वनिंदू हसरंगा के ऊपर ये बैन लगाया गया है। हालांकि अगर हसरंगा के ऊपर टेस्ट मैचों का बैन ना लगता तो फिर टी20 वर्ल्ड कप में उन्हें चार मुकाबले मिस करने पड़ते।

वनिंदू हसरंगा ने पिछले साल टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। हालांकि अब उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में दोबारा वापसी की है। हसरंगा ने अपना रिटायरमेंट वापस ले लिया और इसी वजह से उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए टीम में शामिल किया गया था लेकिन बैन की वजह से वो इन दोनों ही मैचों में नहीं खेल पाएंगे।

दरअसल बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मैच के दौरान हसरंगा को आईसीसी के कोड ऑफ कंडक्ट के तहत आर्टिकल 2.8 को तोड़ने का दोषी पाया गया था। इसके तहत किसी भी इंटरनेशनल मैच में अंपायर के फैसले के खिलाफ असहमति जताना शामिल है। ये घटना पारी के 37वें ओवर की है, जब हसरंगा ने अंपायर से अपनी कैप छीन ली और अंपायरिंग का मजाक उड़ाया। उनकी इस हरकत के लिए उनके ऊपर 50 फीसदी जुर्माना लगाया गया और तीन डीमेरिट प्वॉइंट भी दिया गया। इसी वजह से पिछले 24 महीने में उनके कुल मिलाकर आठ डीमेरिट प्वॉइंट हो गए। हसरंगा के ऊपर पांच डीमेरिट प्वॉइंट पहले से ही लगा था और अब तीन और डीमेरिट प्वॉइंट मिलने की वजह से उनके ऊपर बैन लग गया।

वनिंदू हसरंगा को टी20 वर्ल्ड कप के लिए हुआ फायदा

अगर किसी खिलाड़ी के 24 महीने के अंदर आठ डीमेरिट प्वॉइंट हो जाते हैं तो फिर उसे दो टेस्ट, चार वनडे या फिर चार टी20 से बैन किया जाता है। इनमें से जो फॉर्मेट उसे सबसे पहले खेलना होता है, वहां से उसे बैन किया जाता है। चुंकि हसरंगा ने टेस्ट क्रिकेट से रिटायरमेंट वापस ले लिया था और उन्हें टीम में शामिल किया गया था, इसी वजह से उन्हें दो टेस्ट मैचों से बैन किया गया। हालांकि अगर उनके ऊपर टेस्ट मैचों का बैन ना लगता तो फिर उन्हें टी20 वर्ल्ड कप में चार मैच मिस करने पड़ते।

Quick Links

Edited by सावन गुप्ता