यशस्वी जायसवाल ने फज़लहक फारूकी को दौड़कर रन आउट करने के पीछे की वजह बताई, कप्तान रोहित शर्मा के सन्देश का भी किया खुलासा 

(Snapshot: BCCI/X)
(Snapshot: BCCI/X)

रविवार को इंदौर में खेले गए मुकाबले में भारत ने अफगानिस्तान (IND vs AFG) को 6 विकेट से हराकर सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त बनाई। इस मुकाबले के दौरान अफगानिस्तान की पारी के आखिरी ओवर में कई विकेट गिरे। हालाँकि, अंतिम गेंद पर अफगानी बल्लेबाज फज़लहक फारूकी को यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने दौड़ लगाकर रन आउट किया। उनके पास मौका था कि वह गेंद को थ्रो करते हुए स्टंप्स उड़ा दें लेकिन जायसवाल ने खुलासा किया कि वह थोड़ा उलझन में थे कि थ्रो मारु या नहीं। आखिर में उन्होंने फैसला किया कि तेजी से दौड़ना और स्टंप उड़ाना बेहतर होगा।

होल्कर स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में अफगानिस्तान ने 20 ओवर में अपनी सभी विकेट खोकर 172 का स्कोर बनाया और उसे भारत के हाथों छह विकेट से शिकस्त झेलनी पड़ी। अफगानिस्तान का आखिरी विकेट उनकी पारी की अंतिम गेंद पर आया, जब फज़लहक फारूकी रन लेने के प्रयास में खाता खोले बिना ही पवेलियन लौट गए। अर्शदीप सिंह ने यॉर्कर गेंद डाली और नवीन-उल-हक़ के पैर पर गेंद लगी। हालाँकि, एक रन पूरा हो गया लेकिन जितेश शर्मा के थ्रो के कारण गेंद डीप स्क्वायर लेग पर मौजूद यशस्वी जायसवाल के पास चली गई।

फारूकी दूसरा रन लेने में थोड़ा हिचकिचाए लेकिन फिर भाग पड़े। वहीं, जायसवाल ने पहले थ्रो मारना चाहा लेकिन फिर खुद ही तेजी से दौड़कर नॉन-स्ट्राइकर छोर पर विकेटों को उड़ाया और रन आउट किया।

बीसीसीआई के आधिकारिक एक्स हैंडल पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में जायसवाल ने रन आउट करने के लिए गेंद को स्टंप की ओर ले जाने के पीछे की अपनी सोच का खुलासा किया। उन्होंने बताया,

मैं थोड़ा उलझन में था, मारू की नहीं मारु। फिर मैंने सोचा कि मैं वहां पहुंच सकता हूं और आउट कर सकता हूँ, तो, मैंने दौड़कर स्टंप्स हिट किये।

यशस्वी जायसवाल ने रोहित शर्मा के सन्देश का भी किया खुलासा

कप्तान रोहित शर्मा के साथ यशस्वी जायसवाल ने टेस्ट में कई बार ओपन किया लेकिन टी20 इंटरनेशनल में बीते दिन इन दोनों ने पहली बार पारी का आगाज किया। हालाँकि, इनके बीच सिर्फ 5 रनों की ही साझेदारी हुई, क्योंकि रोहित बिना कोई रन बनाये पहले ही ओवर में बोल्ड होकर पवेलियन लौट गए। लेकिन जायसवाल ने 34 गेंदों में 68 रनों की तेजतर्रार पारी खेली।

उन्होंने बताया कि आक्रामक खेल को लेकर उन्हें कप्तान का किस तरह से समर्थन मिला हुआ है। जायसवाल ने कहा,

वह मुझसे कहते हैं कि तुम बाहर जाओ और निडर होकर अपने शॉट खेलो। वह हमेशा वहां रहते हैं और हमारी देखभाल करते हैं। मुझे लगता है कि अगर आपके पास उनके जैसा सीनियर है तो यह अविश्वसनीय है।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar