Create

"दिनेश कार्तिक को सिर्फ फिनिशर के रूप में चुनना मुझे सही नहीं लगा", पूर्व क्रिकेटर का बड़ा बयान

दिनेश कार्तिक ने आईपीएल 2022 में शानदार प्रदर्शन करके राष्‍ट्रीय टीम में वापसी की
दिनेश कार्तिक ने आईपीएल 2022 में शानदार प्रदर्शन करके राष्‍ट्रीय टीम में वापसी की

भारतीय टीम (India Cricket team) के पूर्व तेज गेंदबाज और मशहूर हिंदी कमेंटेटर विवेक राजदान (Vivek Razdan) ने कहा कि दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) को केवल फिनिशर की भूमिका में चुनना उन्‍हें सही नहीं लगा। उन्‍होंने साथ ही कहा कि ऐसा महसूस होता है कि प्रबंधन ने विकेटकीपर बल्‍लेबाज के लिए एक जगह ब्‍लॉक कर दी है।

दिनेश कार्तिक ने आईपीएल 2022 में फिनिशर की शानदार भूमिका निभाई और इस प्रदर्शन के दम पर राष्‍ट्रीय टीम में वापसी की। 37 साल के कार्तिक ने करीब तीन साल के बाद भारतीय टीम में वापसी की।

हालांकि, राजदान ने फैनकोड से बातचीत में कहा कि कि कार्तिक का फिनिशर की भूमिका में खेलना उन्‍हें सही नहीं लगता और उनका मानना है कि एक जगह ब्‍लॉक कर दी गई है। राजदान ने सलाह दी कि जब टीम को जरूरत होगी तो सूर्यकुमार यादव, विराट कोहली, दीपक हूडा और हार्दिक पांड्या भी इस भूमिका को निभा सकते हैं।

विवेक राजदान ने कहा, 'दिनेश कार्तिक को केवल फिनिशर के रूप में चुनना मुझे सही नहीं लगता। आप दिनेश कार्तिक के लिए एक जगह ब्‍लॉक कर रहे हैं। आप बताइए कि सूर्यकुमार यादव, विराट कोहली, दीपक हूडा और हार्दिक पांड्या में से कौन फिनिशर की भूमिका निभा नहीं सकता है?'

हाल ही में दिनेश कार्तिक ने बताया था कि कप्‍तान रोहित शर्मा और टीम प्रबंधन से किस तरह उन्‍हें समर्थन प्राप्‍त है। उन्‍होंने साथ ही कहा कि फिनिशर की भूमिका ऐसी है, जहां एक खिलाड़ी का न‍िरंतर प्रदर्शन कर पाना मुश्किल है।

कार्तिक ने कहा था, 'एक खिलाड़ी होने के नाते जब आप उच्‍च स्‍तर पर खेल रहे होते तो लोगों को आपसे काफी उम्‍मीदें होती हैं। जरूरी यह है कि मैच के दिन स्थिति को समझते हुए अपना सर्वश्रेष्‍ठ देने का प्रयास करें।'

उन्‍होंने आगे कहा, 'फिनिशर की भूमिका ऐसी है, जहां निरंतर प्रदर्शन करना मुश्किल है। हर बार जब भी आप क्रीज पर आएं तो ऐसा प्रभाव बनाना होता है कि टीम को मदद मिले। यह दोनों तरह काम करता है। गेंदबाज चतुर हैं और आपको हवा की दिशा में शॉट खेलने के लिए मजबूर करेंगे। इससे मुश्किलें बढ़ जाती हैं।'

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
1 comment