Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

युवराज सिंह का वर्ल्ड कप इतिहास में किया गया ऐतिहासिक प्रदर्शन, भारत को दिलाई थी यादगार जीत

युवराज सिंह ने अपने वनडे करियर का गेंद के साथ बेस्ट प्रदर्शन वर्ल्ड कप 2011 में ही किया थ
युवराज सिंह ने अपने वनडे करियर का गेंद के साथ बेस्ट प्रदर्शन वर्ल्ड कप 2011 में ही किया था
EXPERT COLUMNIST
Modified 06 Mar 2021
न्यूज़

6 मार्च 2011 को बैंगलोर के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में भारतीय टीम (Indian Cricket Team) और आयरलैंड (Ireland Team) के बीच लीग स्टेज का बेहद अहम मुकाबला खेला गया था। इस मैच में वर्ल्ड इतिहास का सबसे ऐतिहासिक प्रदर्शन युवराज सिंह (Yuvraj Singh) द्वारा देखने को मिला था।

युवराज सिंह ने सबसे पहले गेंद के साथ घातक गेंदबाजी करते हुए 5 विकेट चटकाए और उसके बाद बल्ले के साथ शानदार नाबाद अर्धशतकीय पारी खेलते हुए भारत को यादगार जीत दिलाई। युवराज सिंह का यह प्रदर्शन मुश्किल परिस्थिति में आया था, लेकिन युवी ने दिखाया था कि क्यों उन्हें विश्व का सबसे बड़ा मैच विनर कहा जाता है।

इस मैच में आने से पहले भारत ने दो मुकाबले खेले थे, जिसमें टीम ने एक मैच जीता था और एकमुकाबला टाई रहा था। इस मैच में महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया था। आयरलैंड की शुरुआत खराब रही थी और 9 के स्कोर तक दो विकेट गंवा दिए थे। यहां से कप्तान विलियम पोर्टरफील्ड और नील ओ'ब्रायन ने शतकीय साझेदारी करते हुए पारी को संभाला। 122 के स्कोर पर ब्रायन रनआउट हो गए, लेकिन यहां से युवराज सिंह ने अपनी गेंद के साथ मैच का रुख ही पूरी तरह से बदल दिया।

युवी ने 129 के स्कोर पर एंड्रू वाइट (5) , 147 के स्कोर पर केविन ओ'ब्रायन (9), 160 के स्कोर पर पोर्टरफील्ड (75), 178 के स्कोर पर जॉन मूनी (5) और 184 के स्कोर पर एलेक्स कुसैक (24) का विकेट चटकाया। युवी ने मैच में 10 ओवरों में 31 रन दिए और 5 विकेट चटकाए। अंत में आयरलैंड की टीम 47.5 ओवरों में 207 रनों पर सिमट गई।

208 रनों का पीछा करते हुए भारत की शुरुआत भी खराब रही थी और 24 के स्कोर पर दो विकेट गंवा दिए थे। हालांकि युवराज सिंह 20.1 ओवर में 87-3 के स्कोर पर बल्लेबाजी करने आए, लेकिन जल्द ही भारत का स्कोर 100-4 हो गया था और टीम मुश्किल में नजर आ रही थी। युवराज सिंह ने एक छोर संभाले रखा और सबसे पहले कप्तान धोनी (34) के साथ 67 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी की। इसके बाद अंत में यूसुफ पठान के साथ 43 रनों की नाबाद साझेदारी करते हुए भारत को 5 विकेट से जीत दिलाई।

युवराज सिंह ने 75 गेंदों में नाबाद रहते हुए 3 चौकों की मदद से 50* रन बनाए। दूसरी तरफ यूसुफ पठान ने भी 24 गेंदों में 2 चौके और 3 छक्कों की मदद से 30* रन बनाए। 2011 वर्ल्ड कप में भारत की यह दूसरी जीत भी थी।

आपको बता दें कि युवराज सिंह वर्ल्डकप इतिहास के एक मुकाबले में अर्धशतक और 5 विकेट लेने वाले पहले खिलाड़ी भी थे। उनके अलावा यह कारनामा बांग्लादेश के शाकिब अल हसन ने ही किया है, जिन्होंने 2019 वर्ल्ड कप में अफगानिस्तान के खिलाफ फिफ्टी और 5 विकेट लिए थे।

Published 06 Mar 2021, 20:43 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now