Create
Notifications

वर्ल्ड कप 2019: सेमीफाइनल में धोनी को 7वें नंबर पर नहीं भेजा जाना चाहिए था- सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर और एम एस धोनी
सचिन तेंदुलकर और एम एस धोनी
Neeraj
visit

वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल में भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 रनों की हार झेलनी पड़ी थी। इस हार के बाद कप्तान विराट कोहली और टीम मैनेजमेंट पर सवाल खड़े किए जा रहे थे कि आखिर धोनी को 7वें नंबर पर क्यों भेजा गया। सचिन तेंदुलकर ने भी इस मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ी है और बताया है कि यदि वह वहां होते तो क्या करते।

सचिन ने कहा, "निश्चित रूप से यदि मैं वहां होता तो धोनी को 7वें नंबर की जगह 5वें नंबर पर भेजता। भारत जिस स्थिति में था वहां आकर धोनी पारी को संभाल सकते थे और हार्दिक तथा कार्तिक को अंतिम के ओवरों के लिए बचाया जा सकता था।"

इसके अलावा मास्टर ब्लास्टर ने फाइनल मुकाबले के विजेता का निर्णय बाउंड्री की बजाय एक अन्य विकल्प से करने का सुझाव दिया है।

सचिन ने कहा, "मेरे हिसाब से दोनों टीमों द्वारा लगाई गई बाउंड्री को देखने की बजाय एक और सुपर ओवर कराया जाना चाहिए था। ऐसा केवल वर्ल्ड कप फाइनल में ही नहीं बल्कि हर मैच में होना चाहिए क्य़ोंकि हर मैच महत्वपूर्ण होता है। जैसे कि फुटबॉल में जब टीमें अतिरिक्त समय में जाती हैं तो अन्य किसी चीज से मतलब नहीं रह जाता है।"

यह भी पढ़ें: वर्ल्ड कप 2019: अंतिम ओवर के विवादित ओवर थ्रो बाउंड्री पर केन विलियमसन का बड़ा बयान

बाउंड्री वाले नियम पर गौतम गंभीर ने लिखा था, "वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम का निर्णय बाउंड्री के आधार पर कैसै लिया जा सकता है? यह बेहद घटिया नियम है। मैं दोनों टीमों को बधाई दूंगा और मेरे लिए दोनों ही चैंपियन हैं।"

ट्विटर पर तमाम क्रिकेट एक्सपर्ट्स और फैंस का कहना है कि जब दोनों ही बार मुकाबला टाई हुआ तो फिर संयुक्त रूप से दोनों टीमों को विजेता घोषित किया जाना चाहिए था और खिताब उनमें बांटा जाना चाहिए था। तमाम लोगों ने ICC को इस नियम के लिए जमकर ट्रोल भी किया।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं।


Edited by सावन गुप्ता
Article image

Go to article

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now