देश के लिए खेलना चाहते हैं भारतीय मूल के फुटबॉल खिलाड़ी यान ढांडा, यूरोपीय फुटबॉल में हैं जानामाना नाम

भारतीय मूल के यान ढांडा लिवरपूल की यूथ टीम के साथ खेल चुके हैं।
भारतीय मूल के यान ढांडा लिवरपूल की यूथ टीम के साथ खेल चुके हैं।

भारतीय मूल के फुटबॉल खिलाड़ी यान ढांडा को भारतीय सीनियर टीम का हिस्सा बनाने की मांग फिर से जोर पकड़ने लगी है। 24 साल के ढांडा पूर्व में इंग्लैंड की अंडर-17 राष्ट्रीय टीम का हिस्सा रह चुके हैं और बतौर मिडफील्डर उनकी स्किल कई विशेषज्ञों को पसंद हैं। इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी रियो फर्डिनेंड ने सोशल मीडिया पर यान का एक वीडियो साझा कर उम्मीद जताई कि उन्हें भारतीय टीम से बुलावा मिल सकता है। इस ट्वीट के बाद भारत के फुटबॉल फैंस और खेल के जानकार लगातार अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

Love it @yandhanda… surely @indianfootball national team ⏳👀 @stimac_igor @kalyanchaubey @Shaji4Football twitter.com/newerasports_/…

दरअसल 24 साल के यान फिलहाल स्कॉटलैंड के क्लब रॉस काउंटी के लिए फुटबॉल खेलते हैं। रियो फर्डिनेंड ने इस क्लब के लिए मौजूदा सीजन में यान की ओर से किए गए शानदार प्रदर्शन का एक वीडियो ट्विटर पर साझा करते हुए लिखा कि वह भारतीय राष्ट्रीय टीम में जरूर शामिल हो पाएंगे। इसी पर फुटबॉल विशेषज्ञों की प्रतिक्रिया आई कि ऐसा करने के लिए यान को ब्रिटिश नागरिकता छोड़ते हुए भारतीय नागरिकता अपनानी होगी।

Giving up my passport means I can’t play professionally in the UK and some European clubs, due to India’s FIFA ranking. Permitting OCI cards, similar to other countries, will allow me to represent the Indian football team as a dual national. I hope this can happen soon 🙏🏽 twitter.com/shaji4football…

इसके जवाब में खुद यान ने लिखा कि अगर वह भारत की नागरिकता लेते हैं तो ऐसे में वह ब्रिटेन समेत यूरोप के कई क्लब में नहीं खेल पाएंगे क्योंकि भारत की फीफा रैंकिंग काफी कम है और ब्रिटेन समेत कई यूरोपीय क्लब टॉप 50 देशों में शामिल टीमों के खिलाड़ियों को ही अपने यहां क्लब फुटबॉल खेलने की अनुमति देते हैं। यान ने उम्मीद जताई कि उन्हें OCI यानी Overseas Citizen of India के जरिए खेलने की अनुमति मिल जाए। यान की प्रतिक्रिया के बाद इस सम्बन्ध में फुटबॉल प्रेमी अलग-अलग राय देते दिखे।

@rioferdy5 @yandhanda @IndianFootball @stimac_igor @kalyanchaubey @Shaji4Football No Rio he can't play for Indian Football Team ,as we have a weird rule of "PIO's can't be selected for national team".....if that would not have been the case we would have a lot more players playing top European leagues

यान की मां ब्रिटिश हैं जबकि पिता का जन्म भी इंग्लैंड में हुआ लेकिन यान के दादा-दादी पंजाब से इंग्लैंड गए थे। ऐसे में यान के पास ब्रिटिश नागरिकता है और वह भारतीय मूल के हैं। लेकिन मौजूदा नियम के मुताबिक केवल भारतीय नागरिक ही देश का प्रतिनिधित्व राष्ट्रीय टीम में कर सकते हैं।

@vinayak0707 @yandhanda @Shaji4Football If you were the president of France, they wouldn't have ever won a world Cup. France, Germany, england all of the big nations allow immigrants from other nations to play for them and they went on to win big things. There is nothing wrong in this. It's a very normal process

इस पूरी स्थिति पर एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि भारतीय टीम में शामिल होने का नियम अगर बदल दिया जाएगा तो यूरोपीय फुटबॉल में खेलने वाले कई भारतीय मूल के खिलाड़ी देश के लिए खेल पाएंगे और टीम को मजबूत करेंगे।

Unpopular Opinion. India should never allow OCI or Dual Citizenship in Football (and other Sports). The moment we are allowed to import players from Europe for NT, the entire existing league and development ecosystem will collapse and we will be dependent on foreign imports.

एक यूजर ने लिखा कि भारत को अपनी रैंकिंग अच्छी करने के लिए भारतीय मूल के खिलाड़ियों को राष्ट्रीय टीम में शामिल करना होगा। लेकिन कई फुटबॉल प्रेमियों का यह भी मानना है कि अगर भारतीय टीम में शामिल होने के नियम बदले जाएंगे तो पिछले कुछ सालों में देश में फुटबॉल को मजबूत करने के लिए किए गए प्रयास विफल हो जाएंगे।

@yandhanda Stay where you are mate. You have a career ahead of you. The fact that you wish to play for India makes me more than happy, but there's a lot of hardwork you've done to reach where you are and coming here and playing is not worth it if I'm being brutally honest.

एक यूजर ने यह भी लिखा कि यान यदि भारत में खेलने आते हैं तो अभी तक बतौर खिलाड़ी उन्होंने जो कुछ कमाया है वह व्यर्थ हो जाएगा। फिलहाल कई फैंस भारतीय फुटबॉल संघ से अपील कर रहे हैं कि नागरिकता और राष्ट्रीय टीम में शामिल होने के नियमों को एक बार फिर देखा जाना चाहिए।

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment