Create

पेट संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए अपनाएं यह 4 खाद्य पदार्थ - Foods To Cure Stomach Related Problems

पेट संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए अपनाएं यह 4 खाद्य पदार्थ (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
पेट संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए अपनाएं यह 4 खाद्य पदार्थ (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

गलत खान-पान और कठोर जीवनशैली के कारण स्वास्थ्य का ख्याल रखना मुश्किल हो जाता है, ऐसे में पाचन संबंधित समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं और पाचन क्रिया कमजोर हो जाती है। पेट और आंतों के बेहतर स्वास्थ्य को बनाए रखने और जठरांत्र संबंधी मार्ग में जटिलताओं को रोकने के लिए आहार का अत्यधिक महत्व है। यदि कोई व्यक्ति अक्सर फूला हुआ या असहज महसूस करता है, तो भोजन के बाद, कुछ मसाले और पेट के अनुकूल खाद्य पदार्थ पाचन प्रक्रिया को आसान बनाने और पेट में दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं। इस लेख में पेट संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए कुछ खाद्य पदार्थों की सूची बनाई गयी है, इनके सेवन से आप पेट से जुड़ी सभी परेशानियों को ठीक कर सकते हैं।

पेट संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए अपनाएं यह 4 खाद्य पदार्थ - 4 Food To Cure Stomach Related Problems In Hindi

1. सेब का सिरका (Apple Cider Vinegar)

एप्पल साइडर विनेगर पाचन एंजाइमों के संश्लेषण को ट्रिगर करने के अलावा, आंत में एक अम्लीय सूक्ष्म वातावरण प्रदान करता है। इस तरह, यह पाचन को बढ़ावा देता है और दर्द, सूजन तथा गैस्ट्रिक समस्याओं के अन्य लक्षणों को भी कम करता है। अपने शुद्ध रूप में, सेब का सिरका अत्यधिक अम्लीय होता है और दांतों को ढकने वाले इनेमल को नष्ट कर सकता है। इसलिए आमतौर पर एक गिलास पानी में 2 चम्मच ACV मिलाने और प्रतिदिन इसका सेवन करने का सुझाव दिया जाता है, ताकि पेट में सूजन को प्रभावी ढंग से ठीक किया जा सके और गैस की समस्या से आराम पाया जा सके।

2. हर्बल टी (Herbal Tea)

हर्बल टी शक्तिशाली पौधों के अर्क से तैयार की जाती है जिसमें कई औषधीय गुण होते हैं। शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी यौगिकों से भरपूर होने के कारण, यह पाचन को सुचारू बनाते हैं और गैस्ट्रिक समस्याओं के कारण होने वाले दर्द को कम करते हैं। कुछ लोकप्रिय हर्बल टी में सौंफ, अदरक, पुदीना, कैमोमाइल और नींबू की चाय शामिल है, जो सूजन और गैस को ठीक करने के लिए अद्भुत काम करती हैं।

3. प्रोबायोटिक्स (Probiotics)

प्रोबायोटिक्स जीवित सूक्ष्मजीव (microorganisms) होते हैं जिन्हें किण्वन (fermentation) के रूप में जानी जाने वाली प्रक्रिया द्वारा विभिन्न खाद्य पदार्थों में शामिल किया जाता है। इनमें लैक्टोबैसिलस, बिफीडोबैक्टीरियम, राइजोपस और सैक्रोमाइसेस समूहों से संबंधित बैक्टीरिया और कवक (yeast) शामिल हैं। इन्हें "अच्छे बैक्टीरिया" कहा जाता है क्योंकि ये पेट में लाभकारी रोगाणुओं की प्राकृतिक आपूर्ति को बनाए रखने में मदद करते हैं और गैस्ट्रिटिस, UTI, दस्त और अन्य आंतों के विकारों को दूर करने में भी मदद करते हैं। नियमित आहार में प्रोबायोटिक की खुराक लेना या प्रोबायोटिक व्यंजन जैसे दही, कोम्बुचा और टेम्पेह को शामिल करना आंत के स्वास्थ्य में काफी वृद्धि करता है।

4. लौंग (Cloves)

लौंग पेट फूलना, गैस्ट्रिक शिकायत, पेट फूलना, कब्ज और यहां तक कि पेट के अल्सर सहित कई पाचन समस्याओं को ठीक करने के लिए एक पारंपरिक उपाय है। भोजन के बाद लौंग के बीजों को चबाना या इलायची के साथ एक चम्मच लौंग का चूर्ण निगलना पाचन अम्लों के स्राव को उत्तेजित करता है, जो एसिडिटी को रोकता है और शरीर से अत्यधिक गैस को बाहर निकालता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment