Create

मिर्गी के दौरों से बचाव के लिए अपनाएं यह 4 घरेलू उपचार - Home Remedies To Prevent Epileptic Seizures

मिर्गी के दौरों से बचाव के लिए अपनाएं यह 4 घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
मिर्गी के दौरों से बचाव के लिए अपनाएं यह 4 घरेलू उपचार (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

मिर्गी (Epilepsy) एक केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (neurological) विकार है जिसमें मस्तिष्क की गतिविधि असामान्य हो जाती है, परिणामस्वरूप दौरे या असामान्य व्यवहार, संवेदनाएं और कभी-कभी जागरूकता का नुकसान होता है। यह बीमारी किसी को भी हो सकती है। दौरे के लक्षण व्यापक रूप से भिन्न हो सकते हैं। मिर्गी से ग्रसित कुछ लोग दौरे के दौरान बस कुछ सेकंड के लिए खाली घूरते हैं, जबकि अन्य बार-बार अपने हाथ या पैर हिलाते हैं। इसके उपचार के लिए कभी-कभी दवाई के साथ सर्जरी की भी आवश्यकता हो जाती है। कुछ लोगों को दौरे को नियंत्रित करने के लिए आजीवन उपचार की आवश्यकता होती है, लेकिन कुछ को कुछ समय बाद उपचार से ही राहत मिल जाती है। मिर्गी के इलाज के लिए आप घरेलू नुस्खों को अपना सकते हैं। इस लेख में मिर्गी से बचाव के लिए घरेलू उपाय बताये गए हैं।

मिर्गी के दौरों से बचाव के लिए अपनाएं यह घरेलू उपचार - Home Remedies To Prevent Epileptic Seizures In Hindi

1. हर्बल उपचार (Herbal treatment)

इस रोग को अलग-अलग दृष्टिकोण से देखा जाता है। इलेक्ट्रॉनिक संकेतों को नियंत्रित करने और दौरे से बचने के लिए कैमोमाइल (chamomile), पैशनफ्लावर (passionflower) और वेलेरियन (valerian) जैसी जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जा सकता है। इससे रोगी में महत्वपूर्ण सुधार दिख सकता है और इसका कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता है। इन जड़ी बूटियों का उपयोग इस बीमारी के इलाज में किया जा सकता है।

2. विटामिन (Vitamin)

विटामिन B6 का निम्न स्तर बार-बार दौरे पड़ने का एक प्रमुख कारण है। इसे शरीर में विटामिन B6 की आवश्यकता को पूरा करके नियंत्रित किया जा सकता है जो दौरे को ट्रिगर करता है। अन्य विटामिन जो मिर्गी के दौरे को नियंत्रित करने में सहायता कर सकते हैं, वे विटामिन E और मैग्नीशियम हैं। मिर्गी की बीमारी होने पर कुछ सप्लीमेंट लेने की सलाह दी जाती है क्योंकि इलाज के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की मात्रा प्राकृतिक आहार से पूरी नहीं होती है।

3. आराम करें (Relaxation)

तनाव और चिंता दोनों ही दौरे के ट्रिगर होते हैं। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को दबाव की स्थितियों और तीव्र कार्य स्थानों से बचने की कोशिश करनी चाहिए। लोगों में तनाव और चिंता को दूर करने के लिए आराम करना सबसे अच्छा तरीका है। यह व्यक्ति को शांत कर सकता है, मांसपेशियों को आराम दे सकता है और आपकी नसों को ठंडा कर सकता है। इन सभी क्रियाओं को एक साथ करने से मिर्गी और दौरे पड़ने के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

4. आहार अनुपूरक (Dietary Supplements)

यह इस बीमारी के इलाज के शुरुआती उपचारों में से एक हैं। कुछ आहार परिवर्तन और पूरक आहार की मदद से मिर्गी के दौरे को कम किया जा सकता है। दौरे को कम करने के लिए बच्चों और बड़े लोगों को अधिक कीटोजेनिक (ketogenic) आहार दिया जाना चाहिए। यह अच्छे फैट्स में उच्च और कार्बोहाइड्रेट में कम है, जिससे शरीर शांत रहता है और दौरे को रोकने में मदद मिलती है। एटकिंस (Atkins) एक उच्च प्रोटीन आहार है जो लक्षणों को कम करने में सहायता कर सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...