Create

शुगर में गुड़मार की पत्तियों के फायदे - Sugar Mein Gudmar Ki Pattiyo Ke Fayde

शुगर में गुड़मार की पत्तियों के फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
शुगर में गुड़मार की पत्तियों के फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

गुड़मार (Gudmar) एक आयुर्वेदिक औषधीय पेड़ है जिसका उपयोग सदियों से शुगर (diabetes) के उपचार के लिए आयुर्वेद में बड़ी मात्रा में किया जाता है। यह जड़ी बूटी ऊष्णकटिबंधीय जंगलों में पाई जाती है। गुड़मार का उपयोग मूत्र संबंधी परेशानियों, मोटापा, चयापचय, खांसी, सांस लेने की समस्‍या, आंखों की समस्‍या, अल्‍सर, पेट दर्द जैसी कई बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है।

आयुर्वेद में गुड़मार को रामबाण औषधि कहा जाता है। यह भारत के मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ समेत कई राज्यों में पाया जाता है। इसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो इंस्टेंट शुगर कंट्रोल कम करने में सहायक होते हैं। गुड़मार के पत्ते, तने और जड़ का आयुर्वेद, यूनानी और सिद्ध पद्धति में दवा की तरह इस्तेमाल किया जाता है। आइये इस लेख के माध्यम से शुगर में गुड़मार की विशेषताओं को समझते हैं।

शुगर में गुड़मार की पत्तियों के फायदे - Sugar Mein Gudmar Ki Pattiyo Ke Fayde In Hindi

गुड़मार के पौधे में कुछ ऐसी एंटी-एथेरोस्‍क्‍लेरोटिक (anti-atherosclerotic) क्रियाएं होती हैं। जो हमें कई महत्‍वपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में मदद करती हैं। गुड़मार में हाइपोग्‍लइसेमिक क्रिया होती है जिसका मतलब यह है कि यह मानव शरीर में ब्लड शुगर के लेवल को कम करने में मदद करता है। जिन लोगों को मधुमेह (diabetes) की समस्‍या होती है उन लोगों के लिए गुड़मार बहुत ही उपयोगी होता है। गुड़मार आपके रक्‍त प्रवाह में लिपिड (lipids) की मात्रा को भी कम करने में मदद करता है।

गुड़मार टाइप 2 मधुमेह के इलाज के लिए भी बहुत ही उपयोगी होता है। आमतौर पर मधुमेह मेलिटस टाइप 2 इंसुलिन की कमी के कारण उच्‍च रक्‍त ग्‍लूकोज द्वारा वर्णित एक चयापचय (Metabolism) विकार है और अक्‍सर जीवन शैली और अनुवांशिक संयोजन के कारण होता है। गुड़मार की पत्तियों में ऐसे गुण होते हैं जो चीनी की मात्रा को कम करने मे मदद करते हैं और टाइप 2 मधुमेह रोगियों में हाइपरग्लिसिमिया को नियंत्रित करने में प्रभावी होते हैं। इसलिए आप मधुमेह टाइप 2 रोग को कम के लिए गुड़मार का उपयोग कर सकते हैं जो आपके ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

कैसे करें सेवन :-

गुड़मार के पत्ते में एंटी-डायबिटिक के गुण पाए जाते हैं। यह न केवल मधुमेह बल्कि कई अन्य बीमारियों में फायदेमंद साबित होती है। गुड़मार की पत्तियों का सेवन करने से एक घंटे तक मिठास का स्वाद खत्म हो जाता है। इसके लिए रोजाना खाली पेट गुड़मार की पत्तियों को चबाकर खाएं। इसके बाद एक गिलास पानी पिएं। इससे न केवल शुगर लेवल कम होता है, बल्कि दिनभर शुगर लेवल नहीं नहीं बढ़ता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment