Create

चाय पीने के नुकसान-Chai peene ke nuksaan

चाय पीने के नुकसान(फोटो:youtube)
चाय पीने के नुकसान(फोटो:youtube)

हममें से ज्यादातर लोग अपने दिन कि शुरूआत गर्म चाय (Tea) के साथ करना पसंद करते हैं। इनमें से कई लोगों का ये भी मानना है कि चाय (Tea) पीने से शरीर को एनर्जी मिलती है। लेकिन आपको बता दें कि ये आपकी गलतफ़हमी है। सुबह सुबह खाली पेट चाय (Tea) पीना सेहत के लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकता है। वहीं कई लोगों को बहुत ज्यादा चाय (Tea)पीने की लत होती है। ज्यादा चाय (Tea) पीना सेहत को बहुत नुकसान पहुंचा सकता है। इसी कड़ी में आज हम आपको चाय (Tea) पीने के नुकसान के बारे में बताएंगे।

चाय पीने के नुकसान Disadvantages of drinking tea in Hindi

हार्ट के लिए (For Heart)

हार्ट (For Heart) को सेहतमंद रखना चाहते हैं तो आज ही चाय (Tea)का सेवन करना बंद कर दें। चाय (Tea)में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जिसका ज्यादा सेवन दिल (For Heart) की सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

पाचन (For Digestion)

अगर आप चाय (Tea) का ज्यादा सेवन करते हैं तो आपको पाचन संबंधी समस्या (Digestion) हो सकती है। ऐसे में चाय (Tea) का ज्यादा सेवन करने से बचें।

डायबिटीज (Diabetes)

डायबिटीज (Diabetes) एक ऐसी बीमारी है जिसका कोई इलाज नहीं है। इसे सही खान-पान के जरिए ही कंट्रोल किया जा सकता है। डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों के लिए चाय (Tea) बहुत हानिकारक साबित हो सकती है। ऐसे में डायबिटीज (Diabetes) के मरीज इसका सेवन करने से बचें।

आंतों पर होता है चाय का असर (For intestines)

चाय (Tea) =पीने का असर आपकी आंतों (For intestines) पर भी पड़ सकता है। ज्यादा चाय (Tea) पीने से आंतें (intestines) खराब हो सकती है।

मोटापा (obesity)

मोटापे (obesity) की समस्या एक आम समस्या हो चुकी है। इसका मुख्य कारण खराब खान-पान और लाइफस्टाइल है। चाय (Tea) का ज्यादा सेवन भी मोटापे (obesity) का कारण बन सकता है। ऐसे में बार-बार चाय (Tea) न पीएं।

ज्यादा चाय पीने से उड़ सकती है नींद (Drinking too much tea can make you sleepless)

ज्यादा चाय (Tea)के सेवन नींद भी उड़ा सकती है। नींद पूरी न होने के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में ज्यादा चाय (Tea) का सेवन करने से बचें।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Ritu Raj
Be the first one to comment