Create

मिसकैरेज के बाद होने वाली परेशानियों को कम करने के लिए घरेलू उपाय : Miscarriage Ke Baad Hone Wale Pareshani Ko Kam Karne Ke Liye Gharelu Upay

मिसकैरेज के बाद होने वाली परेशानियों को कम करने के लिए घरेलू उपाय (फोटो - sportskeeda hindi)
मिसकैरेज के बाद होने वाली परेशानियों को कम करने के लिए घरेलू उपाय (फोटो - sportskeeda hindi)

अक्सर अनचाही प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए कुछ महिलाएं गर्भपात (Miscarriage) करवाती हैं। गर्भपात होने के बाद महिलाओं को कई तरह की छोटी-बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। वहीं गर्भपात के समय होने वाली परेशानियों में ब्लीडिंग, पेट दर्द, पेट में ऐंठन इत्यादि शामिल हैं। अगर गर्भपात के बाद किसी महिला को ब्लीडिंग की परेशानी काफी ज्यादा हो रही है, तो ऐसे में डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। साथ ही इस परेशानी को कम करने के लिए आप घर पर भी कुछ घरेलू नुस्खों को आजमा सकते हैं। जानते हैं गर्भपात के बाद ब्लीडिंग की परेशानी को कम करने के घरेलू उपायों के बारे में।

मिसकैरेज के बाद होने वाली परेशानियों को कम करने के लिए घरेलू उपाय : Miscarriage Ke Baad Hone Wale Pareshani Ko Kam Karne Ke Liye Gharelu Upay In Hindi

गर्म सिंकाई करें - गर्भपात (Miscarriage) के बाद ब्लीडिंग की परेशानी काफी ज्यादा होने पर महिला के पेट में ऐंठन, सिरदर्द इत्यादि की समस्या बनी रहती है। इस समस्या से बचने के लिए पेट के आसपास गर्म पानी से सिंकाई करें।

रास्पबेरी के पत्तियों की चाय लें - गर्भपात के बाद रास्पबेरी के पत्तियों की चाय का सेवन करना लाभकारी होता है। इस चाय के सेवन से शरीर को भरपूर रूप से कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, सेलेनियम और विटामिन ए (vitamin - A) और विटामिन सी (vitamin - C) प्राप्त होता है। यह गर्भाशय सहित पेल्विक मांसपेशियों को मजबूत और टोन करने में महिला की मदद कर सकता है। लाल रास्पबेरी की पत्तियां गर्भावस्था के बाद या फिर गर्भपात के बाद होने वाली हैवी ब्लीडिंग की परेशानी को रोकने में असरदार हो सकती हैं।

माका रूट - गर्भपात के समय शरीर में हार्मोन को शांत करने के लिए माका रूट का सेवन करना लाभकारी हो सकता है। यह पिट्यूटरी ग्रंथि को पोषण और उत्तेजित करने में मदद कर सकता है। साथ ही इससे गर्भपात के दौरान होने वाली परेशानी कम हो सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment