Create

जोड़ों के दर्द का देसी इलाज : Joint Pain Ka Desi Ilaaj

जोड़ों के दर्द का देसी इलाज (फोटो - sportskeeda हिन्दी)
जोड़ों के दर्द का देसी इलाज (फोटो - sportskeeda हिन्दी)

जोड़ों का दर्द (Joint Pain) शरीर के कई हिस्सों में महसूस किया जा सकता है। उम्र, वजन, पुरानी चोटें, जोड़ों का अति प्रयोग और अन्य चिकित्सीय स्थितियां सभी जोड़ों के दर्द के कारक हो सकते हैं। जोड़ों के दर्द की परेशानी आम है और आमतौर पर हाथों, पैरों, कूल्हों, घुटनों या रीढ़ में महसूस होती है। दर्द स्थिर हो सकता है या यह आ और जा सकता है। कभी-कभी जोड़ में अकड़न या दर्द महसूस हो सकता है। कुछ रोगियों को जलन, झनझनाहट या सनसनी की शिकायत होती है। इसके अलावा, सुबह के समय जोड़ में अकड़न महसूस हो सकती है, लेकिन हिलने-डुलने और गतिविधि के साथ अकड़न ढीली हो जाती है और बेहतर महसूस होने लगता है।

हालांकि, बहुत अधिक गतिविधि दर्द को और खराब कर सकती है। जोड़ों का दर्द, जोड़ के कार्य को प्रभावित कर सकता है और किसी व्यक्ति की बुनियादी कार्यों को करने की क्षमता को सीमित कर सकता है। गंभीर जोड़ों का दर्द जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है। उपचार न केवल दर्द पर बल्कि प्रभावित गतिविधियों और कार्यों पर भी ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

जोड़ों के दर्द का देसी इलाज : Joint Pain Ka Desi Ilaaj In Hindi

1. दो चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी का मिश्रण सुबह-शाम 1 गिलास गुनगुने गरम पानी में मिलाकर पिएं। जोड़ों के दर्द की वजह से जो रोगी चलने फिरने में अस्मार्थ हो जाते हैं उन्हे 1 महीने के प्रयोग में ही आराम आएगा।

2. अश्वगंधा, शतावरी और आमलकी के चूर्ण को अच्छे से मिलाकर सुबह पानी के साथ लेने से घुटनों और जोड़ों के दर्द में बहुत आराम मिल सकता है और जोड़ों में मजबूती भी आती है।

3. हर रोज 1 महीने तक रात को 15 से 20 अखरोट की गरी भिगो कर सुबह खाली पेट खाने से घुटनो/जोड़ों के दर्द में लाभ मिलाता है। 2 महीने इसका सेवन करने से आर्थराइटिस भी ठीक हो जाता है।

4. लहसुन की कलियों को 10 महीने को 100ml पानी या फिर 100ml दूध में मिला कर पीने से दर्द में जल्दी लाभ मिलेगा।

5. सुबह के समय योग, प्राणायाम और सूर्य नमस्कार करने से घुटनों और जोड़ो के दर्द से छुटकारा मिलता है। आप चाहे तो गठिया के इलाज के लिए कोई अन्य योग आसन भी कर सकते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment