Create

जानें कपालभाति प्राणायाम करने के लाभ, अभ्यास का तरीका और सावधानियां : Kapalbhati Pranayam Karne Ke Fayde

कपालभाति प्राणायाम करने से मिलता है लाभ, जानें अभ्यास का तरीका और सावधानियां (फोटो - sportskeeda hindi)
कपालभाति प्राणायाम करने से मिलता है लाभ, जानें अभ्यास का तरीका और सावधानियां (फोटो - sportskeeda hindi)

हर कोई चाहता है कि उसका शरीर हेल्दी और निरोगी रहे। जिसके लिए जरूरी है कि उसकी डाइट और जीवनशैली अच्छी हो। ऐसे में इसके लिए जरूरी है कि नियमित रूप से योगासनों का अभ्यास। योग और प्राणायाम दोनों ही शरीर को फिट और निरोगी बनाने का काम करते हैं। आइये जानते हैं कपालभाति प्राणायाम (kapalbhati pranayama) करने से सेहत को मिलने वाले फायदे और इसका तरीका।

जानें कपालभाति प्राणायाम करने के लाभ, अभ्यास का तरीका और सावधानियां

हार्ट से जुड़ी बीमारियों में बहुत फायदेमंद - कपालभाति प्राणायाम करने से हार्ट (heart) से जुड़ी बीमारियों को दूर किया जा सकता है। कपालभाति का अभ्यास करने से शरीर में ब्लड की सप्लाई बढ़ती है और हार्ट ब्लॉकेज की समस्या में भी फायदा मिलता है।

किडनी से जुड़ी परेशानियों में फायदेमंद - रोजाना कपालभाति प्राणायाम करने से किडनी (kidney) से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में मदद मिलती है। आज के समय में लोगों के असंतुलित खानपान और लाइफस्टाइल की वजह से किडनी स्टोन की समस्या तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में जरूरी है कपालभाति का अभ्यास जरूर करना चाहिए।

कब्ज की समस्या में फायदेमंद - कब्ज (gas) की समस्या को दूर करने के लिए कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास लाभकारी है। इसका अभ्यास पाचन तंत्र को मजबूत करने का काम करता है। कपालभाति प्राणायाम करने से पेट में पाचन को बढ़ावा देने वाले एंजाइम बढ़ते हैं और पाचन तंत्र दुरुस्त होता है।

नर्वस सिस्टम से जुड़ी परेशानियों में फायदेमंद - नर्वस सिस्टम से जुड़ी परेशानियों में कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। इससे ब्रेन सेल्स में ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ती है। ब्रेन सेल्स (barin cells) को बेहतर बनाने के लिए और मेमोरी की क्षमता बढ़ाने के लिए कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास जरूर करना चाहिए।

बाल झड़ने की समस्या में फायदेमंद - बाल (hair) झड़ने की समस्या को दूर करने के लिए कपालभाति प्राणायाम का नियमित रूप से अभ्यास करना चाहिए। इसका अभ्यास करने से स्कैल्प में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और बाल की जड़ें मजबूत होती हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan
Be the first one to comment