Create

फलों को खाने का सही तरीका: Falon Ko Khaane Ka Sahi Tarika 

फोटो: Great Foods
फोटो: Great Foods

फलों को खाना (Eating Fruits) एक अच्छी बात है लेकिन हर कोई इसे सही से नहीं खा रहा है। अब आप ये बोल सकते हैं कि भला फलों को खाने में क्या अच्छा और क्या बुरा, क्या खोटा और क्या खरा? ये बात ठीक है कि हमें अपने खाने के तरीके पर यकीन है और हमें ऐसा लगता है कि खाना खाना आसान है जबकि ऐसा नहीं है।

फलों को खाना भी खाना खाने की तरह ही महत्वपूर्ण है लेकिन अगर ये सही से ना किया जाए तो उससे कोई फायदा नहीं होगा। इसलिए ये जरूरी है कि आप अपना ध्यान रखें और ऐसी कोई गलती ना करें जिसे आप नहीं करना चाहते हों। हम सबको फलों का सेवन करने के लिए कहा जाता है और हमें ऐसा करना पसंद भी है।

इसकी एक बड़ी वजह है कि इसमें कई विटामिन्स, मिनरल्स, फाइबर इत्यादि होता है जो आपके शरीर के लिए बेहद जरूरी है। अगर आप चाहें तो अपनी सेहत को ठीक रख सकते हैं पर उसके लिए आपको इन आदतों को अपने जीवन का हिस्सा बनाना होगा और कुछ ऐसी आदतें हैं जिन्हें आपको छोड़ना ही होगा।

फलों को खाने का सही तरीका: Falon Ko Khaane Ka Sahi Tarika

खाली पेट खाएं: Eat fruits on an empty stomach

खाली पेट खाना हो या दवाई, दोनों ही काफी असरदार होती हैं। यही वजह है कि आपको इसे खाली पेट खाने के लिए कहा जाता है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आप खुद को परेशानियों में ड़ाल रहे हैं जो एक अच्छी बात नहीं है। अपनी सेहत का ध्यान रखें और खाली पेट ही फल खाएं।

काटने के बाद महज 20 मिनट के अंदर खाएं: Eat any cut fruit within 20 minutes

ऐसे कई लोग हैं जो अपने ऑफिस या अन्य जगहों पर जाते समय फ्रूट्स काट कर ले जाते हैं। इससे कोई फायदा नहीं है क्योंकि जबतक आप अपने ऑफिस पहुँचते हैं तब तक उसमें से उसका न्यूट्रिशन जा चुका होता है। ऐसे में आप जो खाते हैं वो ऐसा फल है जो कोई फल नहीं देने वाला है।

चबा चबाकर खाएं: Munch properly

अगर आप इसे चबाकर खा रहे हैं तो इसके लाभ आपको जल्दी और बेहतर मिलेंगे वरना ऐसा नहीं होगा जो एक अच्छी बात नहीं है। आप अपनी सेहत को बनाने के लिए इसे खा रहे हैं तो फिर ऐसा कुछ ना करें जिससे इसको नुकसान हो। अपनी सेहत को बनाएं, बिगाड़ने के लिए तो जमाने में मौजूद अनहेल्थी खाना है ही।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Amit Shukla
Be the first one to comment