Create

प्रो कबड्डी लीग 2018: पटना पाइरेट्स, यूपी योद्धा और तेलुगु टाइटंस किस तरह प्ले ऑफ में पहुंच सकते हैं?

Enter caption

प्रो कबड्डी लीग का छठा सीजन काफी रोमांचक स्थिति में पहुंच गया है। अबतक 5 टीमों ने प्ले ऑफ के लिए क्वालीफाई कर लिया है। जोन ए से जहां यू-मुंबा, गुजरात फॉर्च्यूनजायंट्स और दबंग दिल्ली ने काफी आसानी से प्ले ऑफ में जगह बनाई, तो दूसरी तरफ जोन बी से अबतक बेंगलुरू बुल्स और बंगाल वॉरियर्स क्वालीफाई कर चुके हैं, तो आखिरी स्थान के लिए तीन टीमों के बीच टक्कर देखने को मिल रही है।

गत विजेता पटना पाइरेट्स, यूपी योद्धा और तेलुगु टाइटंस अभी भी आखिरी स्थान के लिए अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। इसी वजह से कोलकाता में खेले जा रहे लीग स्टेज का आखिरी लेग काफी रोमांचक बन गया है।

अंक तालिका की स्थिति:

जोन बी में इस समय पटना पाइरेट्स 21 मैचों के बाद 55 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर हैं। यूपी योद्धा 21 मैचों के बाद 52 अंकों के साथ चौथे स्थान पर और तेलुगु टाइटंस 21 मैचों के बाद 50 अंकों के साथ 5वें स्थान पर हैं।

पटना पाइरेट्स को प्ले ऑफ में पहुंचने के लिए क्या करना होगा?

पटना पाइरेट्स का आखिरी लीग मुकाबला 26 दिसंबर को जोन ए में पहले स्थान पर काबिज गुजरात फॉर्च्यूनजायंट्स के खिलाफ होगा। पटना के लिए स्थिति प्ले ऑफ में पहुंचने की स्थिति साफ है। उन्हें यहां तो अपने अंतिम लीग मुकाबले में जीत हासिल करनी होगी या फिर वो टाई मुकाबला भी खेलते हैं, तो वो 60 या 58 अंकों के साथ प्ले ऑफ के लिए क्वालीफाई कर जाएंगे।

पटना को अगर गुजरात के हाथों शिकस्त झेलनी पड़ती है, तो उन्हें कोशिश करनी होगी कि वो इस मैच से कम से कम एक अंक जरूर हासिल करें। पटना की हार की स्थिति में उन्हें प्ले ऑफ में पहुंचने के लिए दूसरे मैचों का परिणाम पर निर्भर रहना होगा। पटना को अपनी हार की स्थिति में इस बात की उम्मीद करनी होगी कि तेलुगु टाइटंस और यूपी योद्धा अपने मुकाबले हार जाएं, ऐसी स्थिति में पटना क्वालीफाई कर जाएगी।

हालांकी तेलुगु अपना मुकाबला जीतती है, यूपी का मैच टाई रहता है और पटना अपने मैच से एक भी अंक हासिल नहीं कर पाती है, तो तीनों टीमों के 55 अंक हो जाएंगे और फिर फैसला स्कोर डिफरेंस पर होगा। इस समय पटना का स्कोर (-28), यूपी का (-61) और तेलुगु टाइटंस का (-50) हैं। ऐसी स्थिति में तेलुगु अगर बड़ अंतर से अपने मुकाबले को नहीं जीतती है और पटना की हार का अंतर कम ही रहता है, तो पटना पाइरेट्स सीधे प्ले ऑफ के लिए क्वालीफाई कर जाएंगे।

यूपी योद्धा को प्ले ऑफ में पहुंचने के लिए क्या करना होगा?

Enter caption

कोलकाता लेग का आखिरी मुकाबला 27 दिसंबर को घरेलू टीम बंगाल वॉरियर्स और यूपी योद्धा के बीच होने वाला है। यूपी अगर अपने इस मैच को जीतती है, तो उनके 57 अंक हो जाएंगे और इसके अलावा उन्हें उम्मीद करनी होगी कि पटना पाइरेट्स अपने मुकाबले को हार जाए। इस स्थिति में यूपी की टीम प्ले ऑफ के लिए क्वालीफाई कर जाएगी।

हालांकि यूपी का मुकाबला टाई रहता है, तो पटना भी अपना मुकाबला बिना कोई अंक हासिल करें हार जाती है, तो पटना और यूपी के 55 अंक हो जाएंगे। इस स्थिति में अगर पटना अपना आखिरी लीग मुकाबला 33 या उससे ज्यादा के अंतर से हारने पर ही यूपी की टीम क्वालीफाई कर पाएगी और साथ ही में उन्हें उम्मीद करनी होगी कि तेलुगु भी अपना मुकाबला हार जाए। हालांकि मामला अगर स्कोर डिफरेंस पर आता है, तो सबसे ज्यादा नुकसान यूपी योद्धा को ही होने वाला है।

तेलुगु टाइटंस को प्ले ऑफ में पहुंचने के लिए क्या करना होगा?

Enter caption

जोन बी में 5वें स्थान पर काबिज तेलुगु टाइटंस का आखिरी लीग मुकाबला 25 दिसंबर को घरेलू टीम बंगाल वॉरियर्स के खिलाफ होना है। तेलुगु की टीम के इस समय 50 अंक हैं और वो आखिरी मैच जीत भी जाते हैं, तो उनके 55 अंक ही होंगे। ऐसी स्थिति में उन्हें दूसरे मैचों के परिणाम पर निर्भर करना होगा।

तेलुगु अपना मुकाबला जीतती है, यूपी अपना मैच हार जाती है और पटना अपने मैच से एक भी अंक हासिल नहीं कर पाती है, तो तेलुगु को कम से कम अपने मुकाबले को 15 पॉइंट के अंतर से जीतना होगा। इस स्थिति में पटना और तेलुगु के 55 अंक हो जाएंगे। हालांकि तेलुगु टाइटंस (-35) बेहतर स्कोर डिफरेंस से पटना पाइरेट्स (-36) को पछाड़ते हुए प्ले ऑफ के लिए क्वालीफाई कर जाएंगे।

Quick Links

Edited by मयंक मेहता
Be the first one to comment