Create

जानिए लॉन बॉल्स खेल के नियम, भारत ने CWG 2022 में पदक जीतकर इतिहास रचा 

लॉन बॉल्स सेमिफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेलतीं भारतीय खिलाड़ीं (बाएं)।
लॉन बॉल्स सेमिफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेलतीं भारतीय खिलाड़ीं (बाएं)।
Hemlata Pandey

बर्मिंघम कॉमनवेल्थ खेलों में भारत ने इस बार इतिहास रचते हुए लॉन बॉल्स के खेल में पदक पक्का कर लिया है। लवली चौबे, पिंकी, रूपारानी और नयनमोनी सैकिया ने महिलाओं के Fours ईवेंट के सेमिफाइनल में न्यूजीलैंड को 16-13 के स्कोर से मात दी और फाइनल में जगह बनाई। ऐसे में टीम को गोल्ड या सिल्वर मिलना तय हो गया है। खेलों के इतिहास में पहली बार टीम इंडिया लॉन बॉल्स में पदक जीतेगी। 2 अगस्त को भारत की ये टीम फाइनल में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलेगी।

🇮🇳 Creates History at @birminghamcg22 🔥India's #LawnBowl Women's Four team creates history by becoming the 1st Indian Team to reach the Finals of #CommonwealthGamesIndia 🇮🇳 16- 13 🇳🇿 New Zealand (SF)They will now take on South Africa in the Finals on 2nd Aug#Cheer4India https://t.co/tu64FSoi8R

भारत ने कॉमनवेल्थ खेलों के इतिहास में आज तक लॉन बॉल्स में पदक नहीं जीता था। ये खेल वैसे भी देश में इतना नहीं जाना जाता। लॉन बॉल्स का गेम जिस मैदान पर खेला जाता है उसे बोलिंग ग्रीन कहा जाता है और इसमें कई रिंक बने होते हैं और इनमें ही खेल होता है। लॉन बोल का खेल सिंगल्स, पेयर्स, ट्रिपल और फोर्स में खेला जाता है। खेल में एक टार्गेट होता है जो गेंद की तरह होता है जिसे जैक कहते हैं।

सभी गेंदों के बीच रखी पीली गेंद जैक कहलाती है और ये ही लक्ष्य होती है।
सभी गेंदों के बीच रखी पीली गेंद जैक कहलाती है और ये ही लक्ष्य होती है।

विरोधी टीमों के बीच टॉस होता है और टॉस जीतने वाली टीम का खिलाड़ी जैक को रोल कर इसे दूसरे छोर के पास रोल करता है और यही जैक का टार्गेट स्थान हो जाता है। इसके अलावा गेंदें होती हैं जो खिलाड़ी रोल करते हुए फेंकते हैं ताकि वो जैक के ज्यादा से ज्यादा करीब पहुंच सकें। मुकाबला जीतने के लिए खिलाड़ी या टीम की कोशिश होती है कि उनकी एक या उससे अधिक गेंदें दूसरी टीम की गेंदों के मुकाबले जैक के पास जाएं।

खेल में जिस टीम की जितनी गेंद दूसरी टीम की सबसे नजदीक गेंद के मुकाबले जैक के ज्यादा पास होती है उसे राउंड में उतने अंक मिलते हैं। उदाहरण के लिए टीम ए की एक गेंद जैक से 100 सेंटीमीटर दूर है और ये 6 प्रयासों में टीम की जैक के पास सबसे नजदीक गेंद है। अब अगर टीम बी की 2 गेदें जैक से सिर्फ 90 सेंटीमीटर दूर रोल होकर गई हैं, तो टीम बी को राउंड के अंत में 2 प्वाइंट मिलेंगे। हर राउंड में हर टीम के पास 6 प्रयास होते हैं। खिलाड़ी चाहें तो अपनी गेंद से दूसरे टीम की गेंद को मारकर उसे जैक से दूर भी ले जा सकती हैं। जैक से हर गेंद की दूरी राउंड के आखिर में नापी जाती है। सिंगल्स में 21 प्वाइंट तक जो पहले पहुंचता है वो जीतता है जबकि बाकि फॉर्मेट में 18 एंड ऑफ थ्रो में जिसके ज्यादा प्वाइंट हुए वह टीम विजयी होती है।


Edited by निशांत द्रविड़

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...