Create

नेशनल गेम्स : कोविड में कोच को खोने वाले शिवा ने राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाते हुए जीता पोल वॉल्ट का गोल्ड

शिवा ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ते हुए नया कीर्तिमान स्थापित किया।
शिवा ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ते हुए नया कीर्तिमान स्थापित किया

इसर्विसेस के लिए खेल रहे शिवा सुब्रमण्यम ने नेशनल गेम्स में नया रिकॉर्ड बनाते हुए पोल वॉल्ट का गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया है। पिछले कई सालों से देश में पोल वॉल्ट में दबदबा बनाए रखने वाले शिवा ने पिछले साल अपने कोच डॉन विलकोक्स को कोविड के कारण खो दिया। लेकिन शिवा को डॉन के बेटे जेराल्ड ने बतौर कोच सहारा दिया और आज इस मुकाम तक पहुंचा दिया।

SIVA SUBRAMANIAM - breaks his own record of Men's POLE VAULT of 5.30mNEW NATIONAL RECORD ⚡️ 5.31m@Media_SAI | #NationalGames2022 | #36thNationalGames https://t.co/BQv3wbgKAn

गांधीनगर के आईआईटी में हो रहे पोल वॉल्ट फाइनल में खेलते हुए शिवा ने पहले तो आसानी से 5.11 मीटर की ऊंचाई नापी और साल 1987 में नेशनल गेम्स रिकॉर्ड के आंकड़े 5.10 मीटर को तोड़ दिया जो विजय पाल सिंह ने बनाया था। इसके बाद शिवा ने आसानी से 5.21 मीटर की ऊंचाई भी पार कर ली। इसके बाद शिवा ने 5.31 मीटर पर बार को रखवाया। राष्ट्रीय रिकॉर्ड 5.30 मीटर था जो शिवा ने ही बनाया था। शिवा 5.31 मीटर की ऊंचाई नापने की कोशिश में पहले प्रयास में फेल हो गए।

दूसरे प्रयास में शिवा ने नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाते हुए 5.31 मीटर की ऊंचाई नाप ली। जीत के बाद शिवा ने अपने पुराने कोच डॉन को ये पदक समर्पित किया। खास बात ये है कि डॉन के बेटे जेराल्ड, जो शिवा के मौजूदा कोच हैं, खुद मूक-बधिर हैं और 2005 और 2009 के डेफलिम्पिक्स में सिल्वर मेडल हासिल कर चुके हैं।

SIVA SUBRAMANIAM - NEW NATIONAL RECORD HOLDER ⚡️ 5.31m Men's POLE VAULT@Media_SAI | #NationalGames2022 | #36thNationalGames https://t.co/iFypdy1ccx

शिवा के टैलेंट को डॉन ने पहचाना था और साल 2013 से उनके साथ ट्रेन कर रहे थे। डॉन मुफ्त में टैलेंटड एथलीटों को पोल वॉल्ट सिखाते थे। डॉन की देखरेख में ही शिवा ने 5.30 मीटर की दूरी नाप 2018 में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया था। और अब डॉन के बेटे जेराल्ड के साथ सीखते हुए नया रिकॉर्ड बना दिया है। शिवा ने हाल ही सर्विसेस चैंपियनशिप में 5.20 मीटर की ऊंचाई पार करते हुए गोल्ड जीता था और नेशनल गेम्स में पदक के सबसे प्रबल दावेदार माने जा रहे थे।

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment