Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

पुलेला गोपीचंद ने कहा- जनवरी के बैडमिंटन इवेंट्स दिखाएंगे कि हम कहां खड़े हैं

पुलेला गोपीचंद
पुलेला गोपीचंद
Vivek Goel
SENIOR ANALYST
Modified 27 Dec 2020, 21:30 IST
न्यूज़
Advertisement

अगले साल मार्च में ओलंपिक्‍स क्‍वालीफिकेशन में नजर रखते हुए भारत के राष्‍ट्रीय बैडमिंटन टीम के प्रमुख कोच पुलेला गोपीचंद का ध्‍यान थाईलैंड में जनवरी में होने वाले टूर्नामेंट्स में लगा हुआ है, जहां उनके खिलाड़ी कोविड-19 ब्रेक के बाद शिरकत करेंगे। अक्‍टूबर में डेनमार्क ओपन और सारलोरलक्‍स ओपन के अलावा महामारी के कारण मार्च 2020 से वैश्विक बैडमिंटन कैलेंडर होल्‍ड पर था। पीवी सिंधू, साइना नेहवाल, बी साई प्रणीत और अन्‍य बड़े नाम डेनमार्क और जर्मनी के टूर्नामेंट्स से दूर ही रहे।

रुकावट के बाद बीडब्‍ल्‍यूएफ वर्ल्‍ड टूर के एशियाई चरण से नियमित सीजन दोबारा शुरू होने की उम्‍मीद है। 12-17 जनवरी तक योनेक्‍स थाईलैंड ओपन, 19-24 जनवरी तक टोयोटा थाईलैंड ओपन और 27-31 जनवरी तक बैंकॉक में बीडब्‍ल्‍यूएफ वर्ल्‍ड टूर फाइनल्‍स टूर्नामेंट आयोजित होंगे। पुलेला गोपीचंद ने द वीक से बातचीत करते हुए कहा, 'जनवरी में टूर्नामेंट्स हमें बताएंगे कि हम कहां खड़े हैं। इसके बाद ही हम जरूरी एक्‍शन लेंगे। यह चुनौतीभरा साल रहना है। जनवरी के पहले दो सप्‍ताह में हमारी शुरूआत दो टूर्नामेंट्स से होगी। खिलाड़ी अनुभवी हैं और ओलंपिक्‍स के लिए हमारी तैयारी के लिए हमें कार्यक्रम के मुताबिक चलना होगा।'

युवाओं के लिए ज्‍यादा बड़ी चुनौती: पुलेला गोपीचंद

कोविड-19 महामारी के कारण ब्रेक के दौरान पुलेला गोपीचंद को हैदराबाद में अपनी एकेडमी में चालू-बंद नेशनल कैंप में कुछ खिलाड़‍ियों के साथ काम करने का मौका मिला। मगर पूर्व ऑल इंग्‍लैंड चैंपियन का मानना है कि फॉर्म का सच्‍चा परीक्षण प्रतिस्‍पर्धी सेटअप से ही मिलता है। पुलेला गोपीचंद हालांकि लंबे ब्रेक के बाद अपने खिलाड़‍ियों को देखकर खुश हैं। 

गोपीचंद ने कहा, 'खिलाड़‍ियों ने शानदार वापसी की। सीनियर खिलाड़‍ियों ने विशेषकर अपना ख्‍याल रखा और जल्‍द वापसी के लिए मांसपेशी तैयार की। किसी में कोई अकड़ नहीं दिखी। अगर थी तो वह शारीरिक रूप से। अगर आप एक महीने ट्रेनिंग करोगे तो शारीरिक रूप से दमदार हो जाओगे। मेरे लिए युवा खिलाड़‍ियों के साथ ज्‍यादा चुनौती थी, जिन्‍होंने सीनियर की तुलना में एक-डेढ़ साल की लय खो दी।'

भारतीय बैडमिंटन के लिए पिछले कुछ महीने टेस्टिंग वाले रहे हैं क्‍योंकि पारुपल्‍ली कश्‍यप, साइना नेहवाल, लक्ष्‍य सेन, एचएस प्रणॉय और सात्विक रंकीरेड्डी जैसे कई शीर्ष खिलाड़ी कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं। गोपीचंद ने कहा, 'सात्विक कोविड-19 से लंबे समय तक जूझे। उसने थोड़ा वजन भी पा लिया है। जब वो वापस आया तब से हम उसकी शारीरिक ताकत पर ध्‍यान दे रहे हैं। उसने वाकई अच्‍छा काम किया। उम्‍मीद है कि टूर्नामेंट्स से पहले वह अपने पुराने आकार में आ जाएगा। साइना, कश्‍यप और प्रणॉय पिछले कुछ दिनों में थोड़े थके हैं, लेकिन किसी में ज्‍यादा संक्रमण नहीं है। मेरे ख्‍याल से वह जल्‍दी वापसी करेंगे।'

Published 27 Dec 2020, 21:30 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit