Create
Notifications

वांग झी को हराकर सिंगापुर ओपन विजेता बनीं सिंधू

सिंधू इस खिताब को जीतने वाली साइना नेहवाल के बाद दूसरी भारतीय महिला खिलाड़ी हैं।
सिंधू इस खिताब को जीतने वाली साइना नेहवाल के बाद दूसरी भारतीय महिला खिलाड़ी हैं।
Hemlata Pandey

भारत की टॉप बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू ने सिंगापुर ओपन सुपर 750 टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया है। टूर्नामेंट में तीसरी सीड सिंधू ने महिला सिंगल्स के फाइनल में चीन की वांग झी यी को 21-9, 11-21, 21-15 से मात दी और पहली बार इस खिताब को अपने नाम किया।

CHAMPION! India's PV Sindhu wins the Singapore Open as she beats China's Wang Zhi Yi in the Women's Singles - Final. 💪🎉Absolutely brilliant. The Queen keeps on winning. 🇮🇳🙌🏽#IndianSports #Badminton 🏸 https://t.co/XLt6HbxMnl

विश्व नंबर 7 और दो बार की ओलंपिक मेडलिस्ट सिंधू ने करीब 1 घंटा चले मैच में वांग को हराने में कामयाबी पाई। पहले गेम में सिंधू का बेहतरीन दबदबा रहा और एक समय जब स्कोर 2-2 से बराबर था तो सिंधू ने शानदार शॉट्स के जरिए लगातार 13 प्वाइंट अपने नाम किए। 22 की एशियाई चैंपियन वांग ने दूसरे गेम में अच्छी वापसी की और एक भी बार सिंधू को बढ़त का मौका न देते हुए गेम जीता। निर्णायक गेम में 5-5 से स्कोर बराबरी पर होने के बाद से सिंधू अपनी लय में आईं और इसके बाद गेम मे एक भी बार वांग को आगे बढ़ने नहीं दिया। आखिरी गेम के साथ सिंधू को ये टाइटल मिला और करीब 22 लाख रुपए की धनराशि भी इनाम में मिली।

Congratulations @Pvsindhu1 for winning the women's singles title in #SingaporeOpen2022!!#SBO2022 #BadmintalkPhoto https://t.co/fdUaFW5Wi8

सिंधू इस खिताब को पाने वाली तीसरी भारतीय खिलाड़ीं बनीं।सिंधू से पहले साल 2010 में साइना नेहवाल ने सिंगापुर ओपन जीता था और साल 2017 में पुरुष सिंगल्स में भारत के बी साईं प्रणीत को खिताब मिला था।

27 साल की सिंधू का ये इस सीजन का तीसरा खिताब है। इससे पहले जनवरी में उन्होंने सैयद मोदी इंटरनेशनल ग्रां प्री और फिर मार्च में स्विस ओपन का टाइटल अपने नाम किया था। इस सीजन का ये सिंधू का तीसरा फाइनल था और इस लिहाज से वो इस पूरे साल अभी तक एक भी फाइनल नहीं हारी हैं। इसके साथ ही महीने के अंत में शुरु हो रहे कॉमनवेल्थ खेलों से ठीक पहले ये खिताब जीतना सिंधू की पदक की उम्मीदों को भी काफी मजबूत करेगा।


Edited by Prashant Kumar

Comments

Fetching more content...