Create

विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप : सात्विक-चिराग और ध्रुव-अर्जुन की जोड़ी ने क्वार्टरफाइनल में पहुंचकर रचा इतिहास

ध्रुव-अर्जुन (बाएं) और चिराग-सात्विक को जोड़ियां पहली बार अंतिम 8 में पहुंची हैं।
ध्रुव-अर्जुन (बाएं) और चिराग-सात्विक को जोड़ियां पहली बार अंतिम 8 में पहुंची हैं।
Hemlata Pandey

एक दिन पहले तक भारत के बैडमिंटन इतिहास में कोई भी पुरुष डबल्स की जोड़ी विश्व चैंपियनशिप के क्वार्टरफाइनल में नहीं पहुंची थी, लेकिन अब दो जोड़ियों ने एक साथ अंतिम 8 में जगह बना ली है। टोक्यो में खेली जा रही BWF विश्व चैंपियनशिप के पुरुष डबल्स क्वार्टरफाइनल में सात्विक साईंराज-चिराग शेट्टी और एमआर अर्जुन-ध्रुव कपिला की जोड़ी पहुंच गई हैं।

𝐐𝐔𝐀𝐑𝐓𝐄𝐑-𝐅𝐈𝐍𝐀𝐋𝐒 𝐒𝐏𝐎𝐓 ✅The Brothers of Destruction Satwik/Chirag enter their 1️⃣st #BWFWorldChampionships Quarter-finals with a dominating win over the 🇩🇰 duo of Jeppe/Lasse 😍Scoreline :21-12, 21-10💥#PBLIndia #BWFWorldChampionships2022 #Tokyo2022 #Badminton https://t.co/YzEYzTqWUd

टूर्नामेंट में 7वीं सीड प्राप्त सात्विक-चिराग की जोड़ी ने तीसरे दौर में डेनमार्क के जेपे बे-लासे मोल्हेदे की जोड़ी को आसानी ने 21-12, 21-10 से हराकर अंतिम 8 में प्रवेश किया। बर्मिंघम कॉमनवेल्थ खेलों में देश को पहली बार पुरुष डबल्स का गोल्ड दिलाने वाली ये जोड़ी पिछली बार तीसरे दौर में हारकर बाहर हुई थी। लेकिन इस बार क्वार्टरफाइनल में पहुंच इतिहास रच दिया है। भारतीय जोड़ी क्वार्टरफाइनल में नंबर 2 सीड जापान के ताकुरो होकी-युगो कोबायाशी का सामना करेगी।

POV you just witnessed 🇮🇳 MD duo of @arjunmr & @dhruvkapilaa reaching their first-ever #BWFWorldChampionships Quarter-finals 😍💥Catch a few glimpses all the way from Tokyo 🇯🇵📸#PBLIndia #BWFWorldChampionships2022 #BWC2022 #Tokyo2022 #Badminton https://t.co/XPzfKnSrEN

वहीं ध्रुव कपिला और एमआर अर्जुन की जोड़ी ने भी इतिहास रचते हुए अंतिम 8 में स्थान पक्का किया है। दूसरे दौर में 8वीं सीड जोड़ी को हराने वाली गैर वरीय भारतीय जोड़ी ने तीसरे दौर में सिंगापुर के ही योंग टैरी-लोह कीन हीन को 18-21, 21-15, 21-16 से मात दी। क्वार्टरफाइनल में इस जोड़ी का सामना तीसरी सीड इंडोनिशिया के मोहम्मद अहसान और हेंद्रा सेतियावान की जोड़ी से होगा। इस इंडोनिशियाई जोड़ी ने 2019 में विश्व चैंपियनशिप डबल्स का खिताब जीता था। ऐसे में ध्रुव और अर्जुन के लिए मुकाबला काफी कठिन होगा।

सात्विक-चिराग और ध्रुव-अर्जुन की जोड़ियां अगर अपने-अपने मैच जीत लेती हैं तो सेमीफाइनल में पहुंच जाएंगे और उनका कांस्य पदक तो कम से कम पक्का हो जाएगा। विश्व चैंपियनशिप के इतिहास में भारत ने डबल्स में सिर्फ 1 मेडल जीता है। यह मेडल महिला डबल्स में साल 2011 में ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी को प्राप्त हुआ था।


Edited by Prashant Kumar

Comments

Fetching more content...