Create
Notifications

एमएस धोनी द्वारा वनडे में खेली गई 3 जबरदस्त पारियां जिसके बावजूद भारत को मिली हार

महेंद्र सिंह धोनी की यह पारियों भारत को जीत नहीं दिला पाई
महेंद्र सिंह धोनी की यह पारियों भारत को जीत नहीं दिला पाई
मयंक मेहता

महेंद्र सिंह धोनी किसी पहचान के मोहताज नहीं है। उन्होंने अपनी बल्लेबाजी, कप्तानी और विकेटकीपिंग से अपना लोहा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में मनवाया है। वो अपनी कप्तानी में भारत को आईसीसी की तीनों ट्रॉफी जिता चुके हैं, तो इसके साथ ही में आईपीएल में तीन बार चेन्नई सुपर किंग्स को चैंपियन बना चुके हैं।

2007 टी20 वर्ल्ड कप, 2011 वर्ल्ड कप और 2013 चैंपियंस ट्रॉफी इन सभी टूर्नामेंट को भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में ही जीता। इसके अलावा धोनी सिर्फ बतौर कप्तान ही कारगार नहीं थे, बल्कि बतौर बल्लेबाज भी उन्होंने काफी छाप छोड़ी है। धोनी ने अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर में 17,000 से ज्यादा रन बनाए और 16 शतक भी लगाए हैं।

यह भी पढ़ें: 5 खिलाड़ी जिनके साथ महेंद्र सिंह धोनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेले हैं, उनके नाम आप नहीं जानते होंगे

वैसे तो महेंद्र सिंह धोनी ने 2011 वर्ल्ड कप फाइनल समेत भारत को कई मैच अपने दम पर जिताए हैं। हालांकि धोनी द्वारा खेली गई काफी पारियां ऐसी भी रही, जिसमें उन्होंने खुूद तो काफी अच्छा किया, लेकिन भारत को उनमें हार मिली।

इस आर्टिकल में हम धोनी द्वारा खेली गई ऐसी ही पारियों के ऊपर नजर डालेंगे:

#) 95 रन vs वेस्टइंडीज, जून 2009

महेंद्र सिंह धोनी ने 82-8 से भारत के स्कोर को 188 के स्कोर तक पहुंचाया
महेंद्र सिंह धोनी ने 82-8 से भारत के स्कोर को 188 के स्कोर तक पहुंचाया

भारत ने 2009 में वेस्टइंडीज का दौरा किया था और सीरीज का दूसरा मुकाबला किंग्सटन में खेला गया था। पहले बल्लेबाजी करते हुए 7-3 के स्कोर पर महेंद्र सिंह धोनी बल्लेबाजी करने आए और टीम ने 82 के स्कोर तक आठ विकेट गंवा दिए थे। हालांकि धोनी ने हार नहीं मानी और एक छोर को संभाले रखा। धोनी ने आरपी सिंह के साथ 101 रनों की साझेदारी करते स्कोर को 180 के पार पहुंचाया। महेंद्र सिंह धोनी ने 130 गेंदों में 6 चौके और दो छक्कों की बदौलत 95 रन बनाए और 188 के स्कोर पर आखिरी विकेट के रूप में आउट हुए।

धोनी की पारी की बदौलत ही भारत सम्मानजनक स्कोर तक पहुंच पाया। हालांकि वेस्टइंडीज की टीम ने सिर्फ 2 विकेट खोकर 35वें ओवर में इस स्कोर को हासिल कर लिया। रवि रामपॉल को उनकी शानदार गेंदबाजी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

यह भी पढ़ें: महेंद्र सिंह धोनी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में लगाए गए सभी शतकों पर नजर

#) 113 रन vs पाकिस्तान, दिसंबर 2012

महेंद्र सिंह धोनी 29-5 के स्कोर से भारत को 227-6 तक पहुंचाया
महेंद्र सिंह धोनी 29-5 के स्कोर से भारत को 227-6 तक पहुंचाया

पाकिस्तान की टीम ने 2012-13 में भारत का दौरा किया और सीरीज का पहला मुकाबला चेन्नई में खेला गया था। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत का स्कोर 29-5 था, जब धोनी बल्लेबाजी करने आए थे। धोनी ने पहले सुरेश रैना (43) के साथ 73 रनों की साझेदारी करते हुए स्कोर को 100 के पार पहुंचाया और इसके बाद रविचंद्रन अश्विन के साथ 125* रनों की साझेदारी करते हुए 227-6 के सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

महेंद्र सिंह धोनी ने इस मैच में 125 गेंदों में नाबाद रहते हुए 6 चौके और 3 छक्कों की मदद से 113* रन बनाए। धोनी ने मुश्किल स्थिति से निकालते हुए भारत की पारी ढेर होने से बचाया। हालांकि पाकिस्तान ने नासिर जमशेद की शतकीय पारी की बदौलत 49वें ओवर में इस स्कोर को हासिल कर लिया। हालांकि धोनी को उनकी शतकीय पारी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

#) 139 vs ऑस्ट्रेलिया, अक्टूबर 2013

महेंद्र सिंह धोनी नोे 76-4 के स्कोर से भारत को 300 के पार पहुंचाया

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2013 में मोहाली में सीरीज का तीसरा मुकाबला खेला गया। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत का स्कोर 76-4 जब धोनी बल्लेबाजी करने आए। धोनी ने पहले विराट कोहली के साथ 72 रनों की साझेदारी की और इसके बाद निचले क्रम के बल्लेबाजों के साथ बल्लेबाजी करते हुए स्कोर को 303-9 तक पहुंचाया।

महेंद्र सिंह धोनी ने नाबाद रहते हुए 121 गेंदों में 12 चौके और 5 छक्कों की मदद से 139* रन बनाए। हालांकि उनकी यह पारी बेकार गई और ऑस्ट्रेलिया ने 6 विकेट खोकर आखिरी ओवर में इस स्कोर को हासिल कर लिया। जेम्स फॉकनर को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

Edited by मयंक मेहता

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...