Create

3 मौके जब ऋषभ पंत को भारतीय कप्तानों का समर्थन मिला 

Neeraj
मौजूदा समय में पंत की गिनती दुनिया के सबसे आक्रामक खिलाड़ियों में होती है
मौजूदा समय में पंत की गिनती दुनिया के सबसे आक्रामक खिलाड़ियों में होती है

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वर्तमान समय में अगर सबसे तेज गति से रन बनाने वाले बल्लेबाजों की बात करें तो उनमें ऋषभ पंत (Rishabh Pant) का नाम भी जरूर शामिल होगा। पंत एक ऐसे विस्फोटक बल्लेबाज हैं जो क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में अपनी धुंआधार बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। पिछले कुछ समय से पंत भारतीय टीम (Indian Cricket Team) के लिए एक मैच विनर के रूप में उभर कर आये हैं।

अपनी शानदार पारियों की मदद से उन्होंने अपने उन आलोचकों का मुँह बंद किया है जो टीम में उनकी जगह को लेकर हमेशा से सवाल उठाते रहे हैं। पंत की सफलता का श्रेय काफी हद तक भारतीय कप्तानों को भी जाता है, इनमें विराट कोहली और रोहित शर्मा का नाम शामिल है। इन दोनों कप्तानों को शुरू से पंत की काबिलियत पर भरोसा रहा था उसी का नतीजा आज हम सब देख रहे हैं। इस आर्टिकल में हम उन 3 मौकों का जिक्र करेंगे जब ऋषभ पंत को भारतीय कप्तानों का समर्थन मिला।

इन 3 मौकों पर भारतीय कप्तानों ने ऋषभ पंत का समर्थन किया

#3 2019 में जब विराट कोहली ने पंत का समर्थन किया

कोहली ने कई मौकों पर पंत का समर्थन किया था
कोहली ने कई मौकों पर पंत का समर्थन किया था

2019 में जब वेस्टइंडीज टीम भारत के दौरे पर आई थी तब दोनों टीमों के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज खेली गई थी। इस सीरीज के लिए ऋषभ पंत को भी टीम में चुना गया था लेकिन उनके टीम स्क्वाड में चुने जाने पर कई सवाल खड़े हुए थे क्योंकि पंत ने इस सीरीज से पहले 2019 में खेले पिछले पांच टी20 मैचों में सिर्फ 56 रन बनाये थे।

बल्ले से खराब प्रदर्शन के अलावा उनकी विकेटकीपिंग क्षमता भी जांच के दायरे में आ गई थी। तीन मैचों की सीरीज का पहला मैच हैदराबाद में खेला जाना था और मैच से पहले हुई प्रेस कांफ्रेंस में कप्तान विराट कोहली ने पंत पर भरोसा जताया और उनका समर्थन करते नजर आये। कोहली ने अपने इंटरव्यू में कहा,

"हम निश्चित रूप से ऋषभ की क्षमता में विश्वास करते हैं। जैसा कि आप कहते हैं कि, खिलाड़ी की भी जिम्मेदारी है कि वह अच्छा प्रदर्शन करे, लेकिन हमारी जिम्मेदारी है कि हम उसे स्पेस दें, उसका समर्थन करें।"
"उसे समर्थन मिलना चाहिए और अगर पंत को यह नहीं मिलता है तो यह अपमानजनक है। एक बार जब वह अच्छा प्रदर्शन करने लगेगा, तो आप उसका एक बहुत अलग संस्करण देखेंगे। उसे इस हद तक अलग-थलग नहीं किया जा सकता है कि वह अच्छा प्रदर्शन नहीं करता है। हम यहां उसके लिए कुछ करने के लिए हैं।"

उस समय तत्कालीन कप्तान विराट कोहली ने अपनी टीम के युवा खिलाड़ी का समर्थन किया था और उन्हें आलोचनाओं से बचाया था।

#2 जब रोहित शर्मा ने ऋषभ पंत की कप्तानी कौशल पर उठे सवालों को खारिज किया

रोहित- पंत (Image - IPL)
रोहित- पंत (Image - IPL)

आईपीएल के 15वें सत्र में दिल्ली कैपिटल्स की कमान ऋषभ पंत के हाथों में थी और दिल्ली को प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई करने के लिए अपने आखिरी लीग मैच में मुंबई इंडियंस के विरुद्ध जीत हासिल करने की जरूरत थी। लेकिन पंत की एक चूक की वजह से दिल्ली को उस मैच में पांच विकेट से हार का सामना करना पड़ा था।

आईपीएल 2022 के 69वें मैच में एक समय पर दिल्ली की टीम मुंबई पर हावी लग रही थी और मुंबई को 36 गेंदों पर 68 रन बनाने थे। 15वें ओवर की तीसरी गेंद पर शार्दुल ठाकुर ने डेवाल्ड ब्रेविस का विकेट निकाला और उनके आउट होने के बाद टिम डेविड बल्लेबाजी करने उतरे। चौथी गेंद पर डेविड ने कवर पर शॉट लगाने की कोशिश की लेकिन वह चूक गए और एक आवाज भी सुनाई दी। इसके बाद पंत और ठाकुर ने जोरदार अपील भी की लेकिन अंपायर ने इसे नॉट आउट करार दिया। पंत के पास डीआरएस लेने का मौका था लेकिन उन्होंने लेना उचित नहीं समझा और इसका खामियाजा पूरी टीम को भुगतना पड़ा। रीप्ले में साफ़ दिखा कि गेंद टिम डेविड के बल्ले का किनारा लेकर पंत के ग्लव्स में गई थी।

इसके बाद डेविड ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 11 गेंदों पर 34 रनों की शानदार पारी खेली और मुंबई को जीत की दहलीज तक पहुंचा दिया। मैच के बाद पंत के इस निर्णय की फैंस और क्रिकेट दिग्गजों ने काफी आलोचना भी की। हालाँकि रोहित शर्मा इस मौके पर पंत का पक्ष लेते दिखाई दिए और उन्होंने पंत को एक बेहतरीन कप्तान बताया। रोहित ने कहा कि आईपीएल के अगले सीजन में पंत एक मजबूत कप्तान के रूप में उभरेंगे। उन्होंने कहा,

"वह एक गुणवत्ता वाला कप्तान है और, इसमें कोई संदेह नहीं है। पिछले सीज़न में, हमने देखा है कि उसने अपनी टीम का नेतृत्व कैसे किया है। कभी-कभी चीजें आपके हिसाब से नहीं जाती हैं। आप इन सब से आप काफी कुछ सीख सकते हैं और चीज़ों को सरल रखने की कोशिश करें।"

अपनी बात को जारी रखते हुए रोहित ने आगे कहा,

"उसके पास एक अच्छा दिमाग है और वह विकेटों के पीछे से खेल को अच्छी तरह से पढ़ता है। यह एक उच्च दबाव वाला टूर्नामेंट है और ये छोटी-छोटी गड़बड़ियां हो सकती हैं। लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि वह आत्मविश्वास न खोएं और खुद पर संदेह न करें। यही सब बातें मैंने उनसे की थी। वह एक आश्वस्त व्यक्ति है, वह अगले सीजन में मजबूत वापसी करेगा।"

#1 जब कोहली ने दक्षिण अफ्रीका में ऋषभ पंत का खराब शॉट खेलकर आउट होने के बावजूद बचाव किया

ऋषभ पंत (Image - Espn)
ऋषभ पंत (Image - Espn)

ऋषभ पंत अपनी तूफानी बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं और कई मौकों पर तेजी से रन बनाने के चक्कर में बाएं हाथ का यह बल्लेबाज सस्ते में अपना विकेट गंवा देता है। भारत के हालिया दक्षिण अफ्रीका दौरे के दूसरे टेस्ट के दौरान भी पंत ने यही गलती की थी और इसके बाद फैंस और पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों ने उनके गलत शॉट चयन को लेकर कई सवाल उठाए थे।

जनवरी 2022 में भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच जोहांसबर्ग में खेले गए दूसरे टेस्ट में भारत की दूसरी पारी के दौरान पंत छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे और तीसरी गेंद पर आगे बढ़कर बड़ा शॉट खेलने की कोशिश की, लेकिन गेंद उनके बल्ले का बाहरी किनारा लेकर विकेटकीपर के दस्तानों में चली गई ।

पंत को एक ऐसे मौके पर बल्लेबाजी करने के लिए भेजा गया था जब टीम को उनसे काफी उम्मीदें थी लेकिन उनकी लापरवाह बल्लेबाजी के कारण टीम की मुश्किलें और भी बढ़ गईं, जिसके बाद फैंस ने उनको जमकर फटकार भी लगाई। लेकिन कप्तान कोहली ने पंत का समर्थन किया और कहा कि एक क्रिकेटर महत्वपूर्ण परिस्थितियों में गलती करता है। कोहली ने अपने इंटरव्यू में बताया,

"हम सब आउट हुए हैं, कभी दबाव के कारण, कभी गेंदबाज के कौशल के कारण। यह समझना बहुत जरूरी है कि उस समय बल्लेबाज की क्या मानसिकता थी, आपने क्या निर्णय लिया और वहां आपकी क्या गलती थी। जब तक हम यह स्वीकार करते रहेंगे। हमारी गलतियों में, हम सुधार करेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि हम उन गलतियों को न दोहराएं।"

कोहली के इस इंटरव्यू से ये बात तो पक्की थी कि टीम मैनेजमेंट को पंत की काबिलियत पर पूरा भरोसा था। पंत ने तीसरे टेस्ट मुकाबले में जबरदस्त वापसी की और टीम इंडिया की दूसरी पारी में उन्होंने 139 गेंदों पर नाबाद 100 रनों की पारी खेली। हालाँकि उनकी इस पारी के बावजूद भारत को मैच में 7 विकेटों से हार का सामना करना पड़ा था।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment