Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

4 क्रिकेटर्स जो रह चुके हैं मैच फिक्सिंग में लिप्त लेकिन आप शायद नहीं जानते

ANALYST
39   //    20 Aug 2018, 21:45 IST
खेल जगत फिक्सिंग के कारण हमेशा से ही शर्मसार हुआ है। क्रिकेट का खेल भी फिक्सिंग की घटनाओं से अछूता नहीं रहा है। समय-समय पर मैच फिक्सिंग की घटनाएं क्रिकेट के खेल में देखने को मिली है। कम समय में ज्यादा पैसा कमाने की इस चाहत के कारण क्रिकेट में भी साल 2000 से मैच फिक्सिंग जैसी घटनाएं सामने आने लगी। कई देशों के खिलाड़ी समय-समय पर इसमें लिप्क पाए गए। जिसके कारण कई खिलाड़ियों का करियर भी चौपट हो गया। भारतीय क्रिकेट में मोहम्मद अजहरुद्दीन मैच फिक्सिंग करने वाले पहले खिलाड़ी के तौर पर जाने जाते हैं।

वहीं इसके बाद एक नया टर्म 'स्पॉट फिक्सिंग' भी सामने आया। इसमें खेल के किसी हिस्से को पहले ही फिक्स कर दिया जाता है। साल 2013 के इंडियन प्रीमियर लीग के सीजन में अंकित चव्हाण, अजीत चांडीला और श्रीसंत जैसे खिलाड़ियों पर स्पॉट फिक्सिंग से जुड़े आरोप लगे। ऐसे में जेंटलमैन खेल कहे जाने वाले क्रिकेट पर भी फिक्सिंग के कारण दाग लगते रहे हैं। आइए आज जानते हैं उन चार खिलाड़ियों के बारे में जो कि इस भ्रष्टाचार में शामिल रहे हैं लेकिन लोग इनके बारे में कम जानते हैं...

#4 लोनवाबो सोट्सोबे (दक्षिण अफ्रीका)



दक्षिण अफ्रीका के लोनवाबो सोट्सोबे ने अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर का आगाज साल 2009 में किया था। सोट्सोबे एक तेज गेंदबाज के तौर पर टीम में शामिल हुए थे। उन्होंने घरेलू स्तर पर साल 2004-05 में पदार्पण करते हुए 17.75 की औसत से 16 विकेट हासिल किए थे। वहीं उन्होंने अलगे घरेलू सीजन में 49 विकेट हासिल करते हुए चयनकर्ताओं को अपनी ओर आकर्षित किया था।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 61 वनडे मुकाबले खेलते हुए उन्होंने 94 विकेट हासिल किए। इस दौरान उनकी औसत 24.97 की रही। उन्होंने सिर्फ पांच टेस्ट मैचों में ही टीम का प्रतिनिधित्व किया है। हालांकि बाद में रैम स्लैम लीग में साल 2015-16 में लोनवाबो सोट्सोबे मैच फिक्सिंग में शामिल पाए गए। इस फिक्सिंग कांड के बाद लोनवाबो सोट्सोबे पर दक्षिण अफ्रीका के जरिए 8 साल का प्रतिबंध लगा दिया गया। इसके बाद से ही लोंवाबो सोट्सोबे ने एक भी क्रिकेट मुकाबला नहीं खेला।
1 / 4 NEXT
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...