Create

4 दिग्गज क्रिकेटर जिन्हें कप्तान की भूमिका में सफलता नहीं मिली

राहुल द्रविड़
राहुल द्रविड़

क्रिकेट के खेल में, कप्तानी बहुत मायने रखती है, क्योंकि कप्तान वह होता है, जो खेल के दौरान अहम कदम उठाता है। एक कप्तान को सामने से टीम का नेतृत्व करना होता है और टीम को प्रेरित भी करता है।लेकिन कुछ दिग्गज क्रिकेटर कप्तानी की भूमिका में असफल हैं।

इस बीच, हम उन कप्तानों के बारे में बात करते हैं जो अपनी टीमों का नेतृत्व करते हुए बुरी तरह विफल रहे। जो कप्तान के रूप में सबसे अधिक मौके में नाकाम रहे, लेकिन एक गेंदबाज या बल्लेबाज के रूप में बड़ी सफलता हासिल की।

यह भी पढ़ें: 3 भारतीय क्रिकेटर जो टीम में शामिल किए जाने के बावजूद एक भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेल पाए

आइए देखते हैं कौन से हैं वो दिग्गज क्रिकेटर जो कप्तान की भूमिका में असफल रहे:


सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर, उन कुछ क्रिकेटरों में से हैं जिन्हें किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने भारतीय क्रिकेट को ऊंचा उठाने के लिए हर संभव कोशिश की है। हालांकि, वह एक सफल कप्तान के रूप में भारत का नेतृत्व करने में विफल रहे।

उनकी कप्तानी में 25 टेस्ट मैचों में सिर्फ 4 मैच जीते और 73 एकदिवसीय मैचों में 23 जीते। ऐसा लग रहा था कि कप्तान का टैग उनके लिए भाग्यशाली नहीं था। हालांकि सचिन ने भारत के लिए कई शतक बनाए हैं, लेकिन वे कप्तान की भूमिका में असफल रहे।


एंड्रू फ्लिंटॉफ

एंड्रयू फ्लिंटॉफ
एंड्रयू फ्लिंटॉफ

एंड्रू फ़्लिंटॉफ उन कुछ क्रिकेटरों में से एक हैं, जो आसानी से किसी भी टीम में सभी प्रारूपों में फिट बैठ सकते हैं। एक अच्छे बल्लेबाज, घातक गेंदबाज और अच्छे क्षेत्ररक्षक, उन्होंने क्रिकेट के खेल में शीर्ष पर बने रहने के लिए अपने स्तर पर सब कुछ हासिल किया।

फ्लिंटॉफ ने छोटी अवधि के लिए टीम का नेतृत्व किया और ज्यादातर हार का सामना करना पड़ा। कप्तान के रूप में 11 टेस्ट में उन्होंने 7 मैच गंवाए और सिर्फ 2 जीते। वह एकदिवसीय टीम के कप्तान थे जिन्होंने 2006 में भारत का दौरा किया था और 5-1 से श्रृंखला हार गए थे। माइकल वॉन फिर कप्तान के पद पर लौट आए और फ्लिंटॉफ को कर्तव्यों से मुक्त कर दिया गया।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

राहुल द्रविड़

राहुल द्रविड़
राहुल द्रविड़

राहुल द्रविड़ को लोकप्रिय रूप से वॉल ऑफ इंडिया के रूप में जाना जाता था। लेकिन दुर्भाग्य से वह अपनी कप्तानी के साथ ऐसा नहीं कर सका। उनकी कप्तानी में 2007 विश्व कप से भारतीय टीम का बाहर होना सबसे असफल अभियान था।

द्रविड़ ने 25 टेस्ट में भारत की कप्तानी की और भारत ने केवल 8 मैच जीते, लेकिन 79 एकदिवसीय मैचों में से उन्होंने 42 जीते। हालाँकि घर में द्रविड़ को बड़ी सफलता मिली, लेकिन वे इसे विदेशों में इसे दोहराने में असफल रहे।


एंडी फ्लावर

एंडी फ्लावर 
एंडी फ्लावर

एंडी फ्लावर की गिनती दिग्गज बल्लेबाजों में होती है। उन्होंने कई मैच जिताऊ पारियां खेलीं। अफसोस की बात है कि वह अपनी कप्तानी के साथ इस तरह के सामान को दोहरा नहीं सके।

उन्होंने 20 टेस्ट में अपने देश का नेतृत्व किया और केवल 1 जीता और 10 मैच गंवाए और 9 ड्रॉ हुए। हालांकि, यह उनकी गलती नहीं थी, क्योंकि जिम्बाब्वे की टीम को क्रिकेट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है और उन्हें बोर्ड से जरूरी सहयोग कभी नहीं मिला।

Quick Links

Edited by निशांत द्रविड़
Be the first one to comment