Create
Notifications

4 कारण क्यों महेंद्र सिंह धोनी को संन्यास ले लेना चाहिए

महेंद्र सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी
Utkarsh Mishra

जब से यह पता चला कि सौरव गांगुली भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष बनेंगे, उनसे सबसे ज्यादा बार पूछे गए सवालों में से एक सवाल महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य के बारे में था। इसपर गांगुली ने कहा कि वे धोनी और चयनकर्ताओं दोनों से बात करेंगे ताकि आगे का रास्ता निकल सके।

यह भी पढ़ें: IPL 2020: 3 खिलाड़ी जिन्हें चेन्नई सुपरकिंग्स इस नीलामी में खरीद सकती है

विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में भारत के बाहर होने के बाद से धोनी ने एक भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है। उन्होंने वेस्टइंडीज दौरा और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू श्रृंखला छोड़ दी। इसके अलावा, हाल की रिपोर्टों के अनुसार वे नवंबर तक चयन के लिए उपलब्ध भी नहीं रहेंगे।

खेल से दूर अपने समय के दौरान धोनी ने भारतीय सेना की सेवा में दो सप्ताह बिताए। धोनी के भविष्य को लेकर सस्पेंस जारी है, ऐसे में आइये देखें वो चार कारण कि क्यों पूर्व भारतीय कप्तान को संन्यास ले लेना चाहिए:

4. धोनी अब अपने चरम पर नही हैं

कुछ समय से धोनी का प्रदर्शन सही नहीं रहा है
कुछ समय से धोनी का प्रदर्शन सही नहीं रहा है

धोनी ने आखिरी बार 2019 विश्व कप के दौरान न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत के लिए कोई मैच खेल था। इसमें कोई संदेह नहीं है कि धोनी अपने खेल के चरम पर नहीं हैं। यह बात विश्व कप 2019 से पहले भी स्पष्ट थी। लेकिन धोनी के अनुभव और परिपक्वता को ध्यान में रखते हुए टीम में चुना गया।

हालांकि धोनी विश्व कप सेमीफाइनल को छोड़कर कोई अच्छा प्रदर्शन नही कर पाए थे। टूर्नामेंट में उनकी विकेटकीपिंग भी अच्छी नहीं रही थी और उन्होंने सबसे ज्यादा बाई के रन दिए थे।

वनडे क्रिकेट में धोनी की कुल स्ट्राइक रेट 87.56 है लेकिन जनवरी 2018 से यह गिरकर 78.54 हो गई है। भले ही इस अवधि के दौरान उनका 41.66 का औसत अच्छा हो लेकिन यह उनकी करियर की औसत 50.57 से काफी कम है।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं।

3. भविष्य की तैयारी

भारत को करनी चाहिए भविष्य की तैयारी
भारत को करनी चाहिए भविष्य की तैयारी

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भारत का अगला लक्ष्य विश्व कप 2020 है। उस समय तक 39 वर्ष के हो चुके धोनी एक आदर्श विकल्प नहीं होंगे। इसके अलावा, भारत को 2023 विश्व कप को देखते हुए विकेटकीपर बल्लेबाज की जगह के लिए पंत या संजू सैमसन को तैयार करना शुरू कर देना चाहिए।

2. धोनी का अपने हिसाब से सीरीज खेलना

एमएस धोनी
एमएस धोनी

धोनी पिछले कुछ समय से अपने मन से कोई सीरीज खेल रहे हैं या ब्रेक पर हैं। धोनी ने अभी कुछ समय तक क्रिकेट से ब्रेक लिया था जिसकी वजह से टीम में पंत को मौका दिया गया। पंत अभी टीम में जगह बनाने में लगे हुए हैं। ऐसे में धोनी का किसी सीरीज के लिए वापस आना, पंत को सबकुछ फिर से शुरू करने को बाध्य करेगा जो इस युवा के लिए सही नहीं होगा। ऐसे में धोनी को जल्द फैसला लेने की जरूरत है।

1. उनके पास हासिल करने के लिए कुछ नहीं बचा है

एमएस धोनी
एमएस धोनी

महेंद्र सिंह धोनी के नाम दुनिया के किसी अन्य कप्तान से ज्यादा उपलब्धियां है। उन्होंने कप्तान के रूप में आईसीसी की तीनों ट्रॉफियां (विश्व टी20, विश्व कप और चैंपियंस ट्रॉफी) जीती हैं और कप्तान रहते हुए टीम को नंबर एक टेस्ट टीम भी बनाया। इसके अलावा उनके नाम एशिया कप के खिताब भी हैं। वह भारत के सफ़लतम कप्तानों में से एक हैं।

विश्व कप 2019 टीम में धोनी की मौजूदगी टीम के संकट की स्थिति में होने के लिए महत्वपूर्ण थी। लेकिन वह भारतीय टीम में कुछ समय और बने रहते हैं तो अगली पीढ़ी के क्रिकेटरों का रास्ता रोक रहे होंगे। यह सही समय पर युवाओं को मौका देने की धोनी की खुद की नीति के खिलाफ है। अतीत में खुद एमएस धोनी ने एक युवा टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया में CB सीरीज जीती थी ऐसे में उनको बाकी खिलाड़ियों को मौका देना चाहिए।

Edited by Naveen Sharma

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...