Create

5 खिलाड़ी जो दो विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम की प्लेइंग XI का हिस्सा थे

एमएम धोनी 2007 टी20 विश्व कप और 2011 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के कप्तान थे
एमएम धोनी 2007 टी20 विश्व कप और 2011 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के कप्तान थे

किसी भी भारतीय क्रिकेटर का अंतिम सपना अपने देश के लिए 'विश्व कप' जीतना है। यह एक ऐसा टूर्नामेंट है, जिसे हर क्रिकेटर अपने क्रिकेटिंग करियर के दौरान, कम से कम एक बार जीतने के लिए तरसता है। भारत ने अभी तक दो बार वनडे विश्व कप 1983 और 2011 में जीता था। इसके साथ ही भारतीय टीम ने एक बार टी20 विश्व कप का ख़िताब भी 2007 में अपने नाम किया था।

भारत को अपना दूसरा वनडे विश्व कप जीतने के लिए 28 साल का लम्बा इंतजार करना पड़ा। भारत ने अपना पहला विश्व कप कपिल देव की कप्तानी में जीता था और दूसरा महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में। भारत के किसी भी खिलाड़ी को दो वनडे विश्व कप जीतने का अनुभव नहीं है। कई भारतीय क्रिकेटरों जैसे कपिल देव, सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर, एमएस धोनी, विराट कोहली, युवराज सिंह, हरभजन सिंह और वीरेंदर सहवाग को एकदिवसीय विश्व कप विजेता क्रिकेट टीम का हिस्सा बनने का सौभाग्य मिला है।

यह भी पढ़े: टेस्ट मैच के एक दिन में सर्वाधिक रन बनाने वाले 5 बल्लेबाज

अगर हम टी20 विश्व कप और वनडे विश्व कप की बात करे तो कई ऐसे भारतीय खिलाड़ी हैं जो इन दोनों विश्व कप जीतने वाली टीम के लिए फ़ाइनल में खेले थे। इस आर्टिकल में हम ऐसे ही 5 खिलाड़ियों की बात करने जा रहे हैं जो 2007 विश्व कप और 2011 विश्व कप जीतने वाली टीमों का हिस्सा थे:

#5 एस श्रीसंत

एस श्रीसंत 
एस श्रीसंत

एस श्रीसंत उन 5 खिलाड़ियों में एक हैं जो दो विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। श्रीसंत कभी भारतीय टीम के नियमित सदस्य नहीं रहे लेकिन वो दोनों ही विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के प्लेइंग XI का हिस्सा थे। 2007 टी20 विश्व कप के फाइनल में श्रीसंत ने 4 ओवरों में 44 रन दिए थे और एक विकेट लिया था। हालाँकि श्रीसंत के लिए सबसे यादगर पल फाइनल मुकाबले के आखिरी ओवर में पाकिस्तान के मिस्बाह उल हक़ का कैच लेकर भारत को विश्व कप जिताना था।

2011 विश्व कप के फ़ाइनल में श्रीसंत को चोटिल आशीष नेहरा की जगह प्लेइंग XI में शामिल किया गया था। श्रीसंत का प्रदर्शन काफी साधारण रहा और उन्होंने 8 ओवर की गेंदबाजी में एक भी सफलता हासिल नहीं की।

#4 हरभजन सिंह

हरभजन सिंह
हरभजन सिंह

पंजाब के ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह 2007 टी20 विश्व कप और 2011 वनडे विश्व कप फाइनल दोनों में भारत के एकमात्र स्पिनर थे। टी20 विश्व कप के फ़ाइनल में हरभजन सिंह काफी महंगे साबित हुए और 3 ओवरों में 36 रन खर्च किये और कोई भी विकेट नहीं लिया। 2011 विश्व कप के फ़ाइनल में भी हरभजन कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पाए और 10 ओवर में 50 रन देकर मात्र 1 सफलता हासिल की।

#3 युवराज सिंह

युवराज सिंह
युवराज सिंह

युवराज सिंह 2007 टी20 और 2011 वनडे विश्व कप दोनों में भारत के सबसे बड़े स्टार थे। अपने शानदार ऑलराउंड प्रदर्शन से दोनों ही विश्व कप जिताने में भारत के लिए अहम भूमिका निभाई थी। टी20 विश्व के फाइनल में युवी मात्र 14 रन बना पाए थे। वहीं 2011 विश्व कप फाइनल में गेंद से 2 विकेट लिए बल्ले से 21 रनों की नाबाद पारी खेली थी।

#2 गौतम गंभीर

गौतम गंभीर
गौतम गंभीर

गौतम गंभीर दोनों ही विश्व कप फाइनल में बल्ले से भारत के हीरो थे। गंभीर ने दोनों ही फ़ाइनल में दो महत्वपूर्ण पारियां खेली थी। पाकिस्तान के खिलाफ 2007 के टी20 विश्व कप फाइनल में, गंभीर ने पारी की शुरुआत की, और 54 गेंदों पर 75 रन की मैच विनिंग पारी खेली। गंभीर की इस पारी ने भारत को सम्मानजनक स्कोर तक पहुँचाया। चार साल बाद गंभीर ने वनडे विश्व कप फाइनल में श्रीलंका के 275 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 97 रन की बेहतरीन पारी खेली।

#1 महेंद्र सिंह धोनी

महेंद्र सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी

एमएस धोनी दोनों ही विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के कप्तान थे। टी20 विश्व कप के फाइनल में धोनी मात्र 6 रन बना सके। हालाँकि उन्होंने कप्तान के तौर पर शानदार फैसले लिए और भारत को विश्व कप जितवाया। 2011 विश्व कप फाइनल में धोनी ने 93 रनों की नाबाद पारी खेली और भारत के लिए विनिंग सिक्स लगाया।

Quick Links

Edited by सावन गुप्ता
Be the first one to comment