COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

AUS vs IND: 5 कारण जिनकी बदौलत भारत ने यह टेस्ट श्रृंखला जीती

Fambeat Hindi
ANALYST
टॉप 5 / टॉप 10
1.62K   //    07 Jan 2019, 22:27 IST

Image result for india vs aus

भारत ने इस टेस्ट श्रृंखला में जीत की शुरुआत एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट के साथ की। लेकिन, पर्थ में दूसरे ही टेस्ट में भारत को करारी शिकस्त भी झेलना पड़ी। मेलबर्न में खले गए बॉक्सिंग डे टेस्ट को जीत कर, भारत ने इस श्रृंखला में जोरदार वापसी की और 2-1 से बढ़त हासिल कर ली। मेजबान ऑस्ट्रेलिया के लिए अब यहाँ से इस श्रृंखला को बचाना ही आखिरी लक्ष्य था।

सिडनी में हुए चौथे टेस्ट में भारत ने टॉस जीत कर ऑस्ट्रेलिया की मुश्किले बढ़ा दी। सिडनी में पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने पहली पारी में 600 से अधिक रन बना कर मेजबान को खेल से बाहर ही कर दिया। सिडनी टेस्ट में बारिश ने खलल डाल कर, मेजबान को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। परिणामस्वरूप, भारत ने पिछले 71 साल के इतिहास में पहली बार ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट श्रृंखला जीतने का कीर्तिमान स्थापित किया।

भारत की ओर से चेतेश्वर पुजारा इस जीत के नायक रहे। बल्लेबाज़ी में कप्तान विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, ऋषभ पंत और मयंक अग्रवाल ने भी अपना योगदान दे कर एक अहम भूमिका निभाई। गेंदबाजों ने पिछले एक साल से जबरदस्त प्रदर्शन जारी रखा और आवश्यक स्थितियों में विकेट ले कर अपना योगदान दिया।

आइये, एक नज़र उन 5 कारणों पर जिसकी वजह से भारत ने यह टेस्ट श्रृंखला जीती है:


#5. मयंक अग्रवाल की जबरदस्त बल्लेबाज़ी


Image result for agarwal vs aus

पहले दो टेस्ट मैचों में निराश कर देने वाली सलामी साझेदारी के बाद, भारत को एक नए ओपनर बल्लेबाज़ की आवश्यकता थी। जब मयंक अग्रवाल को बॉक्सिंग डे टेस्ट में मौका मिला, तो उन्होंने इस मौके को दोनों हाथ से लपक कर भारत की इस कमी को पूरा कर दिया। इतने बड़े मंच पर होने के बावजूद भी वह कोई दबाब में नहीं दिखे।

उनकी इस 76 रनों कि शानदार पारी से ये स्पष्ट हो गया की वह इस स्तर के लायक है। उन्होंने न सिर्फ अच्छा प्रदर्शन किया बल्कि टीम में एक सलामी बल्लेबाज़ के रूप में मजबूत विकल्प के तौर पर खुद को पेश भी किया। उनके इस प्रदर्शन के बाद यह बात तो तय है कि वह निश्चित रूप से भविष्य के लिए सलामी बल्लेबाज बनकर उभरेंगे।

उन्होंने इस श्रृंखला में 3 परियों में 195 रन बनाए, और इस संघर्षपूर्ण स्थिति में एक सलामी बल्लेबाज़ के विकल्प में खुद को प्रस्थापित किया।




1 / 5 NEXT
Tags:
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...