Create
Notifications

चेन्नई सुपर किंग्स ने 10 पहले पहली बार जीता था आईपीएल का खिताब, सुरेश रैना ने खेली थी जबरदस्त पारी

सुरेश रैना बने थे फाइनल में प्लेयर ऑफ द मैच
सुरेश रैना बने थे फाइनल में प्लेयर ऑफ द मैच
मयंक मेहता

25 अप्रैल 2010 को आईपीएल के तीसरे सीजन का फाइनल मुकाबला चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस के बीच मुंबई के डीवाई पाटिल स्टेडियम में खेला गया था। चेन्नई सुपर किंग्स का आईपीएल इतिहास का यह दूसरा फाइनल था, मुंबई की टीम पहली बार फाइनल में पहुंची थी। इस मैच को चेन्नई सुपर किंग्स ने 22 रनों से जीतते हुए पहली बार खिताबी जीत दर्ज की थी और सुरेश रैना ने जबरदस्त अर्धशतकीय पारी खेली थी।

चेन्नई सुपर किंग्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया। चेन्नई ने पहले विकेट के लिए 44 रन जरूर जोड़े, लेकिन इसके बाद मुंबई की टीम ने विकेट चटकाते हुए सीएसके का स्कोर 67-3 कर दिया। सुरेश रैना ने लेकिन एक छोर संभाले रखा और इस बीच उन्हें कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का भी अच्छा साथ मिला। दोनों ने 72 रनों की साझेदारी की और धोनी 139 के स्कोर पर 22 रन बनाकर आउट हुए। हालांकि रैना ने 35 गेंदों में नाबाद रहते हुए 3 चौके और 3 छक्कों की मदद से 57 रन बनाए थे। इसी की बदौलत सीएसके ने 20 ओवरों में 168-5 का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया।

यह भी पढ़ें: युवराज सिंह द्वारा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में लगाए गए सभी शतकों पर नजर

169 रनों का पीछा करने उतरी मुंबई इंडियंस ने शिखर धवन का विकेट 1 के स्कोर पर गंवा दिया था। सचिन तेंदुलकर (45 गेंदों में 48 रन) और अभिषेक नायर (26 गेंदों में 27 रन) ने 66 रनों की साझेदारी करते हुए पारी को संभाले का प्रयास किया। हालांकि इनकी साझेदारी काफी धीमी थी और इसी वजह से जरूरी रनरेट का दबाव मुंबई के ऊपर बढ़ गया और उनकी पारी लड़खड़ा गई। 67-1 से मुंबई का स्कोर जल्द ही 114-6 हो गया। अंत में अंबाती रायडू (14 गेंदों में 21 रन) और किरोन पोलार्ड (10 गेंदों में 27 रन) ने लड़ाई का जज्बा दिखाया और मुंबई को जिताने का प्रयास किया। हालांकि 19वें में लगातार गेंदों पर पहले रायडू और फिर पोलार्ड आउट हो गए और इसी के साथ उनकी जीत की सभी उम्मीद भी समाप्त हो गई। अंत में मुंबई इंडियंस 146-9 का स्कोर ही बना पाई और 22 रनों से अपना पहला फाइनल हार गई। ।

सुरेश रैना को उनकी शानदार अर्धशतकीय पारी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया था, तो सचिन तेंदुलकर को टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने के लिए ऑरेंज कैप, तो डेक्कन चार्जर्स के प्रज्ञान ओझा को सबसे ज्यादा विकेट लेने के लिए पर्पल कैप का अवॉर्ड मिला।

आपको बता दें कि इससे पहले चेन्नई सुपर किंग्स की टीम 2008 में हुए आईपीएल के पहले सीजन में फाइनल में पहुंची थी, लेकिन वहां उन्हें आखिरी गेंद पर राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा था


Edited by मयंक मेहता

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...