Create

इंग्लैंड की टेस्ट टीम में इन 2 खिलाड़ियों को मिलनी चाहिए जगह, दिग्गज ने दी प्रतिक्रिया

इंग्लैंड का एशेज में बहुत ही खराब प्रदर्शन रहा
इंग्लैंड का एशेज में बहुत ही खराब प्रदर्शन रहा

इंग्लैंड क्रिकेट टीम (England Cricket Team) को ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं पर निराशा का सामना करना पड़ा है। ऑस्ट्रेलिया में खेली गई एशेज सीरीज में इंग्लैंड को मेजबान ऑस्ट्रेलिया के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा। जहां 5 मैचों की इस टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड को 0-4 से हार मिली, वहीं एक टेस्ट मैच जैसे-तैसे ड्रॉ कराने में सफल रहे। इस सीरीज में मुख्य समस्या टीम की बल्लेबाजी रही और इसी वजह से पूर्व इंग्लिश खिलाड़ी ने डेविड लॉयड (David Lloyd) ने आगामी वेस्टइंडीज दौरे (ENG vs WI) के लिए टेस्ट टीम के दो ऐसे खिलाड़ियों के नाम बताए जिन्हें निश्चित रूप से चुना जाना चाहिए।

एशेज सीरीज का अंतिम टेस्ट मैच रविवार को खत्म हुआ और मैच के तीसरे दिन इंग्लिश बल्लेबाजी ढह गयी। 271 रन का पीछा करते हुए पहले विकेट के लिए 68 रन जोड़े। इसके बाद एक विकेट गिरते ही लगातार बल्लेबाज आउट होते रहे और पूरी टीम महज 38.5 ओवर में 124 रन पर ढेर हो गयी तथा ऑस्ट्रेलिया ने 146 रन से मैच अपने नाम किया।

इंग्लैंड की इस शर्मनाक हार के बाद इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर डेविड लॉयड ने टीम में बदलाव की मांग की है। जिसमें उन्होंने 2 बल्लेबाजों के नाम बताए जिन्हें मार्च में वेस्टइंडीज दौरे पर शामिल करना होगा। लॉयड ने एक तो तेज गेंदबाज साकिब महमूद का नाम लिया, वहीं दो बल्लेबाजों में उन्होंने जॉनी बेयरेस्टो और लियाम लिविंगस्टोन को बल्लेबाजी यूनिट में शामिल करने की बात कही।

डेली मेल के लिए अपने कॉलम में उन्होंने लिखा,

मैं आपको दो (बल्लेबाज) दूंगा जिन्हें मार्च में इंग्लैंड के साथ कैरेबियन जाना चाहिए। साकिब महमूद एक है, लेकिन यह बल्लेबाज है जिसकी हमें सबसे ज्यादा जरूरत है और वह आक्रामक बल्लेबाज लियाम लिविंगस्टोन है।
उनका प्रथम श्रेणी रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं है, लेकिन मुझे वहां एक रियल परफ़ॉर्मर दिखाई देता है। एक और असली खिलाड़ी जॉनी बेयरस्टो है, लेकिन यह इंग्लैंड की गलतियों का परिणाम है कि उन्होंने उसे बहुत ज्यादा परेशान किया है। टेस्ट टीम के पुनर्निर्माण का बेयरस्टो जरूर हिस्सा होना चाहिए।

हमारे बल्लेबाज एक साथ ठोस प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं हैं - डेविड लॉयड

डेविड लॉयड का मानना है कि इंग्लैंड का संघर्ष काफी हद तक तकनीकी है और बल्लेबाजी इकाई बिखरी है। ओली पोप के प्रथम श्रेणी और टेस्ट प्रदर्शन के बीच अंतर बताते हुए उन्होंने कहा,

आप इस तथ्य से दूर नहीं हो सकते कि इंग्लैंड की बल्लेबाजी की समस्या तकनीकी है। हम एक और इंग्लैंड के पतन के बारे में बात कर रहे हैं। यह बोरिंग हो गया है।
हमारे बल्लेबाज एक साथ ठोस प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं हैं। लेकिन ये हमारे सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में ओली पोप का औसत 50 का है, और कुछ समय पहले हमारी बड़ी उम्मीद थे, लेकिन जरा उसे देखो।

ओली पोप से इंग्लिश पक्ष को काफी उम्मीद थी लेकिन हालिया एशेज में 11.16 की बेहद खराब औसत से उनके बल्ले से 6 पारियों में 67 रन आये।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment