Create

जेम्‍स एंडरसन ने किया खुलासा, आखिर क्‍यों टीम इंडिया सीरीज में बना पाई बढ़त

जेम्‍स एंडरसन ने भारत की सीरीज में बढ़त लेने के कारण का खुलासा किया
जेम्‍स एंडरसन ने भारत की सीरीज में बढ़त लेने के कारण का खुलासा किया

इंग्‍लैंड (England Cricket team) के अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्‍स एंडरसन (James Anderson) ने भारतीय टीम (India Cricket team) के मौजूदा टेस्‍ट सीरीज में 2-1 से आगे रहने का प्रमुख कारण बताया है। विराट कोहली (Virat Kohli) के नेतृत्‍व वाली भारतीय टीम ने पांच मैचों की टेस्‍ट सीरीज में 2-1 की बढ़त बना रखी है, जिसमें पांचवां टेस्‍ट कोविड-19 चिंता के कारण रद्द हो गया।

इंग्‍लैंड ने अहम मौकों पर अपनी बढ़त गंवाई और भारत को इसका पूरा फायदा मिला। लॉर्ड्स और द ओवल में इंग्‍लैंड की टीम मजबूत स्थिति में थी, लेकिन फिर टीम इंडिया ने दोनों मौकों पर दमदार वापसी करते हुए टेस्‍ट जीते।

इंग्‍लैंड के रिकॉर्डधारी तेज गेंदबाज जेम्‍स एंडरसन का मानना है कि भारतीय टीम इस सीरीज में बढ़त इसलिए बना पाई क्‍योंकि उसने अहम मौकों पर मेजबान टीम से बेहतर प्रदर्शन किया। 39 साल के एंडरसन ने जोर देकर कहा कि इंग्‍लैंड की टीम विरोधी टीम को मौके भेंट नहीं कर सकती थी क्‍योंकि भारत जैसी टीम इसका पूरा फायदा उठाना जानती है।

द टेलीग्राफ में लिखे अपने कॉलम में एंडरसन ने लिखा, 'भारत के 2-1 से आगे रहने का कारण यह था कि उसने अहम मौकों पर हमसे बेहतर खेला। चाहे वो अनुभव था या क्वालिटी, मुझे नहीं पता। हमें सीखने की जरूरत है कि जब मैच में हम आगे हों तो अपनी बढ़त कैसे कायम रखनी है। जब भारत को मौका मिला, तो उसने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए शीर्ष पर खुद को जमाए रखा।'

दूसरी पारी में ऑलआउट नहीं होना चाहिए था: एंडरसन

इंग्‍लैंड को लॉर्ड्स और द ओवल में अपने खराब प्रदर्शन के लिए काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। लॉर्ड्स में इंग्‍लैंड के प्रमुख गेंदबाजों के सामने भारत के पुछल्‍ले बल्‍लेबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया। ओवल में इंग्‍लैंड के मिडिल ऑर्डर ने निराश किया जबकि ओपनर्स ने शानदार शुरूआत दिलाई थी।

जेम्‍स एंडरसन ने ओवल टेस्‍ट के बारे में कहा कि इंग्‍लैंड ने पहली पारी में अच्‍छी बढ़त बना ली थी, लेकिन गेंदबाजी में खराब प्रदर्शन किया। एंडरसन ने प्रकाश डाला कि चौथी पारी में 10 विकेट गंवाना बिलकुल स्‍वीकार नहीं था क्‍योंकि पिच मुश्किल नहीं थी।

Quick Links

Edited by Vivek Goel
Be the first one to comment