Create
Notifications

किरोन पोलार्ड ने रविन्द्र जडेजा की गेंदों को निशाना बनाने की कहानी बताई 

Naveen Sharma

चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) से किरोन पोलार्ड (Kieron Pollard) ने अकेले मैच छीन लिया। पोलार्ड ने 8 छक्के और 6 चौकों की सहायता से 34 गेंद में 87 रन की नाबाद पारी खेली। रविन्द्र जडेजा के ओवर में उन्होंने रन बनाने की योजना बनाई और बाद में लगातार रन बनाते गए। उन्होंने अपनी पारी के बाद बड़ी प्रतिक्रिया दी।

किरोन पोलार्ड ने कहा कि उनके पास छोटे मैदान पर गेंदबाजी करने के लिए स्पिन के चार ओवर थे, मैं उन्हें हिट करने की कोशिश कर रहा था। मुझे जडेजा के खिलाफ अधिकतम करना था। छक्के की जोड़ी हमेशा हमें खेल में बनाए रखने वाली थी। आपको विकसित होना है, बहुत इसमें अभ्यास जाता है। मैं यह नहीं कह रहा कि मैं 360 डिग्री हूँ लेकिन अधितम एंगल उपयोग करने का प्रयास करता हूँ।

किरोन पोलार्ड का पूरा बयान

पोलार्ड ने अंतिम ओवर में सिंगल नहीं लेने का कारण बताते हुए कहा कि धवल बल्ले के साथ डिसेंट है लेकिन मुझे ही वे छह बॉल खेलनी थी। व्यक्तिगत रूप से आपको वह दबाव लेना होता है। ऐसा हमने पहले भी किया है। सौभाग्य से आज हम लाइन के उस पार पहुँच गए। फाफ ने मुझे एक मौका दिया। विकेट अच्छा था। दो लगातार जीत हुई है, आशा है कि इससे हमें मूमेंटम मिलेगा।

गौरतलब है कि मुंबई इंडियंस 3 विकेट गंवाने के बाद संघर्ष करती हुई नजर आ रही थी लेकिन किरोन पोलार्ड ने क्रुणाल पांड्या के साथ मिलकर एक बड़ी भागीदारी की। पांड्या 23 गेंद में 32 रन बनाकर आउट हो गए तब पूरी जिम्मेदारी पोलार्ड के कंधों पर थी। उन्होंने लगातार रन बनाना जारी रखा और मैच में जीत का प्रयास किया। अंतिम ओवर में भी जब मुंबई को 16 रन चाहिए थे तब पोलार्ड ने सिंगल नहीं लिया और खुद ही बल्लेबाजी करते रहे। दो चौके और छक्का लगाते हुए उन्होंने मैच खत्म किया और 34 गेंद में नाबाद 87 रन की पारी खेली। मुंबई ने इतनी बड़ी जीत लक्ष्य का पीछा करते हुए आईपीएल में कभी प्राप्त नहीं की थी।


Edited by Naveen Sharma

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...