Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

रविंद्र जडेजा (Ravindra Jadeja)


ABOUT
BATTING STATS

GAME TYPE M INN RUNS BF NO AVG SR 100s 50s HS 4s 6s CT ST
ODIs 156 103 2128 2491 34 30.84 85.43 0 11 87 160 41 57 0
TESTs 48 69 1844 2899 17 35.46 63.61 1 14 100 176 49 34 0
T20s 46 22 163 165 8 11.64 98.79 0 0 25 7 4 20 0
BOWLING STATS

GAME TYPE M INN OVERS RUNS WKTS AVG ECO BEST 5Ws 10Ws
ODIs 156 152 1308 6366 178 35.76 4.87 36/5 1 0
TESTs 48 92 2137 5200 211 24.64 2.43 48/7 9 1
T20s 46 46 152 1093 35 31.23 7.18 48/3 0 0
ABOUT

रविंद्र जडेजा की जीवनी

6 दिसंबर 1988 को जन्मे रवींद्र जडेजा भारतीय क्रिकेट की शानदार खोज में से एक हैं। सौराष्ट्र का बाएं हाथ का यह बल्लेबाज कई मौकों पर विजयी खिलाड़ी साबित हुआ है।


वह बाएं हाथ से स्पिन गेंदबाजी करने के अलावा बल्लेबाजी में निचले क्रम में आकर अपनी जिम्मेदारी संभालते हैं। उनका जन्म मध्यम वर्गीय राजपूत परिवार में एक चौकीदार के घर में हुआ था। उन्होंने अपने शुरुआती जीवन में कई चीजों से वंचित रहे हैं।

अंडर 19 वर्ल्ड कप



करियर की शुरुआत

घरेलू टूर्नामेंट में अपने प्रदर्शन के दम पर जडेजा को विश्वकप 2008 में जीतने वाली भारत की अंडर-19 टीम में चुना गया। इसके बाद उन्होंने कई टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करके टीम में अपनी एक अहम जगह बनाई।


2008-09 के रणजी सत्र में जडेजा ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए सौराष्ट्र के लिए 739 रन बनाए और 42 विकेट झटके। इसके दम पर उन्हें 2009 में भारतीय क्रिकेट की एकदिवसीय टीम में चुना गया। श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के आखिरी मैच में भारत की तरफ से खेलते हुए उन्होंने अर्धशतक (60 रन) जमाया था। हालांकि, सीरीज जीतने के बावजूद भारत यह आखिरी मैच हार गई थी।


आईपीएल में जडेजा


रविंद्र जडेजा को 2008 में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पहले सीज़न के लिए राजस्थान रॉयल्स टीम द्वारा खरीदा गया था। उन्होंने तब कुछ मैच खेले भी थे। आईपीएल 2011 के संस्करण में 20 लाख डॉलर में चेन्नई सुपर किंग्स टीम में जाने से पहले जडेजा कोच्चि टस्कर्स केरल की टीम में थे।


प्रमुख उपलब्धियां

2013 की चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में रविंद्र जडेजा ने इंग्लैंड के खिलाफ 33 रनों की बहुमूल्य पारी खेली और दो विकेट हासिल करके टीम को दूसरी बात यह खिताब हासिल करवाने में मदद की थी।


कुछ महीनों बाद जडेजा ने आईसीसी वनडे रैंकिंग में नंबर एक गेंदबाज के रूप में शीर्ष स्थान हासिल किया था। वह 1996 में अनिल कुंबले के बाद से रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंचने वाले पहले गेंदबाज बन गए।

चैंपियनशिप ट्रॉफी में रविंद्र जडेजा


खराब प्रदर्शन से हुए आलोचना के शिकार

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथी बनने के बाद 2013 में उनकी प्रसिद्धि और बढ़ गई। हालाँकि, अच्छा प्रदर्शन करने के बावूजद उनको कई बार आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।


2014 के टी-20 विश्वकप का समय उनके लिए अच्छा नहीं था। उस दौरान टूर्नामेंट में वह बहुत महंगे गेंदबाज साबित हुए थे। एकदिवसीय मैचों में भी उनका बल्ला कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पाया था, जिसकी वजह से उन्हें कुछ मैचों के लिए अपनी जगह अक्सर पटेल से गंवानी पड़ी थी।


उन पर चयनकर्ताओं ने फिर भरोसा दिखाया और उन्हें 2015 के आईसीसी विश्व कप के लिए टीम में शामिल किया लेकिन वहां भी उनकी किस्मत नहीं चमक पाई।


टेस्ट मैचों में रविंद्र जडेजा ने दिखाया दम


जडेजा 2016 और 2017 में नई ऊंचाइयों पर पहुंचे, जो शायद उनके करियर के सर्वश्रेष्ठ साल थे। उन्होंने 38 टेस्ट मैचों की पारियों में 97 विकेट लिए और बल्ले से मैच जिताने वाला प्रदर्शन किया था। 2016-17 सत्र में टेस्ट क्रिकेट के प्रदर्शन के लिए उन्हें शीर्ष गेंदबाज और ऑल-राउंडर के रूप में भी स्थान दिया गया था।


Fetching more content...