केविन पीटरसन को इंग्लैंड के लिए दोबारा नहीं खेलना चाहिए था - माइकल वॉन

केविन पीटरसन - माइकल वॉन
केविन पीटरसन - माइकल वॉन

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने का मानना है कि पूर्व खिला़ड़ी केविन पीटरसन को साल 2012 के टेक्स्ट गेट विवाद के बाद से राष्ट्रीय टीम के लिए नहीं खेलना चाहिए था, जहां उन्होंने अपने कप्तान एंड्रयू स्ट्रास के खिलाफ दक्षिण अफ्रीकी टीम के खिलाड़ियों को संदेश भेजे थे, इसके कारण काफी विवाद हुआ था।

दरअसल, साल 2012 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में होने वाले टेस्ट मैच से पहले केविन पीटरसन को हटा दिया गया था। केविन पीटरसन ने एंड्रयू स्ट्रॉस और तत्कालीन कोच एंडी फ्लावर के बारे में अफ्रीकी टीम को संदेश भेजे थे, जिसके बाद से ही स्ट्रॉस और पीटरसन के बीच सार्वजनिक रूप से अनबन हुई थी।

ये भी पढ़ें - सचिन तेंदुलकर ने हीरो कप 1993 में अंतिम ओवर में की गई गेंदबाजी को याद किया

फॉक्सस्पोर्ट्स से बात करते हुए माइकल वॉन ने कहा, 'कुछ समय के लिए इंग्लिश क्रिकेट टीम पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा और मुझे अभी भी लगता है कि कुछ व्यक्तियों पर इसका असर काफी ज्यादा था। मुझे अभी भी लगता है कि कुछ ऐसे हैं जो इस बदतर स्थिति से बाहर आए हैं।'

उन्होंने आगे कहा,'मैंने कभी भी इस मामले में 100 प्रतिशत स्पष्टीकरण नहीं देखा, लेकिन उन्होंने अगर ऐसा किया था, तो मैंने उस समय व्यक्तिगत रूप से कहा था और तब से यह कहा है कि उन्हें फिर कभी इंग्लैंड के लिए नहीं खेलना चाहिए था।'

माइकल ने आगे कहा,'अगर कोई इंग्लैंड का खिलाड़ी मायने नहीं रखता है, तो वह कौन है। अगर पाया जाता है कि वो विरोधी अंतरराष्ट्रीय टीम को मैसेज करता है और अपने साथी के बारे में बताता है कि उसे कैसे आउट करना है, तो मुझे लगता है कि उसे कभी भी इंग्लैंड के लिए नहीं खेलना चाहिए।'

बता दें, केविन पीटरसन जिन्होंने 2005 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना डेब्यू टेस्ट मैच खेला था, उन्होंने साल 2014 में अपनी टीम के लिए अपना आखिरी टेस्ट खेला था।

Quick Links

App download animated image Get the free App now