Create
Notifications

क्‍या चेतेश्‍वर पुजारा टेस्‍ट में काफी धीमे हैं? ऑस्‍ट्रेलियाई क्रिकेटर ने फैन को दिया करारा जवाब

चेतेश्‍वर पुजारा
चेतेश्‍वर पुजारा
Vivek Goel

टेस्‍ट क्रिकेट में खिलाड़ी की असली परीक्षा होती है। ऐसे कई क्रिकेटर्स रहे, जिनकी तारीफ इसलिए हुई क्‍योंकि वो क्रीज पर डटे रहे और अपना विकेट नहीं गंवाया। हालांकि, समय के साथ खेल में बदलाव आता गया और अब फैंस को सीमित ओवर क्रिकेट रास आने लगा है। इसके बाद से टेस्‍ट खिलाड़‍ियों की कद्र में कुछ कमी देखने को मिली है।

कुछ ऐसा ही हाल भारतीय टेस्‍ट विशेषज्ञ चेतेश्‍वर पुजारा का भी है। पुजारा अपनी क्‍लासिक टेस्‍ट बल्‍लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। लंबे समय तक पिच पर टिकना, गेंदबाजों की परीक्षा में खरा उतरना और बड़ी पारियां खेलना, पुजारा ने सबसे लंबे प्रारूप में ये सब करके दिखाया।

हालांकि, कई बार पूर्व क्रिकेटर्स और पंडित ने पुजारा के धीमे खेलने की आलोचना की। भारत के ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के दौरान पुजारा काफी दबाव में थे क्‍योंकि उन्‍होंने 8 पारियों में 33.87 के औसत से 271 रन बनाए थे।

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व बाएं हाथ के स्पिनर ब्रैड हॉग ने चेतेश्‍वर पुजारा के धीमी बल्‍लेबाजी करने के सभी दावों को खारिज किया। हॉग ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर फैंस के साथ सवाल-जवाब सत्र आयोजित किया।

इस सत्र के दौरान एक फैन ने सवाल किया कि क्‍या चेतेश्‍वर पुजारा टेस्‍ट में काफी धीमे हैं। ब्रैड हॉग ने तुरंत ही भारतीय बल्‍लेबाज के बचाव में अपना जवाब दिया। हॉग ने कहा कि टीम को 33 साल के चेतेश्‍वर पुजारा जैसे बल्‍लेबाजों की जरूरत है। चाइनामैन ने साथ ही कहा कि वह पुजारा की बल्‍लेबाजी का काफी लुत्‍फ उठाते हैं।

फैन ने पूछा, 'ब्रैड हॉग, क्‍या पुजारा टेस्‍ट में काफी धीमे हैं?' इस पर पूर्व ऑस्‍ट्रेलियाई स्पिनर ने जवाब दिया, 'अपने आसपास के बल्‍लेबाजों के साथ नहीं। आपको किसी बल्‍लेबाज की जरूरत है जो समय लेकर खेले। मुझे उन्‍हें बल्‍लेबाजी करते देखना पसंद है। उनके धैर्य और दृढ़संकल्‍प की तारीफ करना होगी।'

हॉग की नजर में कौन होगा डब्‍ल्‍यूटीसी चैंपियन?

इस दौरान ब्रैड हॉग ने अनुमान लगाया कि विश्‍व टेस्‍ट चैंपियनशिप का नतीजा क्‍या निकलेगा। भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच साउथैम्‍प्‍टन में 18 जून से डब्‍ल्‍यूटीसी फाइनल खेला जाएगा।

50 साल के हॉग ने कहा कि किसी एक टीम को चुनना मुश्किल है, लेकिन फिर भी न्‍यूजीलैंड का पलड़ा भारी है क्‍योंकि उन्‍हें इंग्‍लैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्‍ट सीरीज खेलने को मिली है। हॉग ने एक फैन के सवाल के जवाब में कहा, 'मुश्किल है, लेकिन मुझे लगता है कि न्‍यूजीलैंड को फायदा मिलेगा क्‍योंकि फाइनल से पहले उसे दो टेस्‍ट खेलने का मौका मिला है।'


Edited by Vivek Goel

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...