Create

कुंबले-हरभजन की जोड़ी को अश्विन-जडेजा से बेहतर बताते हुए पूर्व खिलाड़ी ने दिया बड़ा बयान 

ये दोनों ही जोड़ियां भारत के लिए टेस्ट में कामयाब हुई हैं
ये दोनों ही जोड़ियां भारत के लिए टेस्ट में कामयाब हुई हैं

भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट में मौजूदा समय में रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) और रविंद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) की जोड़ी काफी कामयाब हुई है और इनकी सफलता देखकर काफी लोग इन्हें अनिल कुंबले (Anil Kumble) और हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) की जोड़ी से बेहतर भी मानते हैं। हालाँकि पूर्व भारतीय खिलाड़ी सबा करीम (Saba Karim) की राय अलग है और उन्होंने कुंबले-हरभजन की जोड़ी को ज्यादा बेहतर बताया।

भारतीय क्रिकेट में अक्सर ही स्पिनरों का बोलबाला रहा है और मौजूदा समय में यह जिम्मेदारी दाएं हाथ के ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और बाएं हाथ के स्पिनर रविंद्र जडेजा संभाल रहे हैं।

स्पिन के खिलाफ बल्लेबाजी का स्तर गिर गया है - सबा करीम

इंडिया न्यूज पर चर्चा के दौरान, सबा करीम को कुंबले-हरभजन और अश्विन-जडेजा की जोड़ी में से किसी एक को चुनने के लिए कहा गया। इस पर उन्होंने कहा,

मेरा वोट अभी भी अनिल कुंबले और हरभजन सिंह की जोड़ी को जाएगा। मुझे लगता है कि वह युग अधिक चुनौतीपूर्ण था। आज के युग में, मेरा मानना है कि क्रिकेट विकसित हो रहा है लेकिन स्पिन के खिलाफ बल्लेबाजी का स्तर गिर गया है।

पूर्व खिलाड़ी ने यह भी कहा कि कुंबले और हरभजन की जोड़ी ने बेहतर बल्लेबाजों के खिलाफ गेंदबाजी की थी। उन्होंने कहा,

वह युग [कुंबले और हरभजन] जहां स्पिन गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया था, उनके सामने बल्लेबाज़ी की गुणवत्ता शानदार थी। अच्छे बल्लेबाज थे, जो स्पिनरों के खिलाफ असाधारण बल्लेबाजी करते थे।
कई विदेशी खिलाड़ी थे जिन्होंने उच्च गुणवत्ता वाले स्पिनरों के खिलाफ बहुत अच्छी बल्लेबाजी की। पाकिस्तान, श्रीलंका, ऑस्ट्रेलिया, वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा और शिवनारायण चंद्रपॉल जैसे कई खिलाड़ी थे। इंग्लैंड के भी कुछ खिलाड़ी थे, जिन्होंने स्पिनरों को अच्छा खेला।

आपको बता दें कि कुंबले और हरभजन की जोड़ी ने 54 टेस्ट मैचों में 501 विकेट अपने नाम किये। इस दौरान भारत ने 21 मैच में जीत और इतने ही मैच ड्रॉ कराने में कामयाबी पाई। वहीं टीम को 12 मैचों में हार का सामना करना पड़ा।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment