Create
Notifications

IPL 2021 - रविचंद्रन अश्विन ने मॉर्गन और टिम साउदी पर निशाना साधा, 6 लगातार ट्वीट एक साथ किये

मैदान पर अश्विन और मॉर्गन के बीच हुई थी गहमागहमी (Photo - Disney+Hotstar)
मैदान पर अश्विन और मॉर्गन के बीच हुई थी गहमागहमी (Photo - Disney+Hotstar)
Rahul
visit

IPL 2021 में हुए कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) और दिल्ली कैपिटल्स (DC) के बीच मुकाबले के दौरान एक बड़ा विवाद खड़ा हुआ। यह विवाद दिल्ली के रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) और केकेआर के कप्तान इयोन मॉर्गन (Eoin Morgan) व टिम साउदी (Tim Southee) के बीच ओवर थ्रो पर रन लेने को लेकर हुआ। इन खिलाड़ियों के बीच मैदान पर गहमागहमी भी देखने को मिली थी। आज रविचंद्रन अश्विन ने इस मामले को लेकर अपना पक्ष रखा है।

रविचंद्रन अश्विन ने एक के बाद एक ट्वीट करते हुए बताया कि मैदान पर क्या हुआ और यह सही था या गलत? उन्होंने पहले ट्वीट में लिखा कि, 'जब मैंने फील्डर को थ्रो करते देखा तो मैं दौड़ने के लिए मुड़ा और मुझे नहीं पता था कि गेंद ऋषभ को लगी थी। अगर मैं इसे देखता तो क्या मैं दौड़ूंगा?, बेशक मैं करूँगा और मुझे इसकी अनुमति है। क्या मैं खराब हूँ, जैसा मॉर्गन ने बोला - नहीं।

1. I turned to run the moment I saw the fielder throw and dint know the ball had hit Rishabh.2. Will I run if I see it!? Of course I will and I am allowed to.3. Am I a disgrace like Morgan said I was? Of course NOT.

अश्विन ने अगले ट्वीट में लिखा कि, और क्या मैंने लड़ाई की? नहीं, मैं अपने लिए खड़ा हुआ और यही मेरे शिक्षकों और माता-पिता ने मुझे सिखाया है। और कृपा करके अपने बच्चों को भी अपने लिए खड़ा होना सिखाएं। मॉर्गन या साउथी की क्रिकेट की दुनिया में वे जो सही या गलत मानते हैं, उसे चुन सकते हैं और उस पर टिके रह सकते हैं, लेकिन इन खिलाड़ियों को अपमानजनक शब्दों का उपयोग करने का अधिकार नहीं है। इससे भी अधिक आश्चर्य की बात यह है कि लोग इस पर चर्चा कर रहे हैं और यह भी बात करने की कोशिश कर रहे हैं कि यहाँ अच्छा और बुरा कौन है। घर के सभी प्रशंसकों के लिए 'क्रिकेट एक जेंटलमैन का खेल है।'

4. Did I fight? No, I stood up for myself and that’s what my teachers and parents taught me to do and pls teach your children to stand up for themselves.In Morgan or Southee’s world of cricket they can choose and stick to what they believe is right or wrong but do not have the
right to take a moral high ground and use words that are derogatory. What’s even more surprising is the fact that people are discussing this and also trying to talk about who is the good and bad person here! To all the ‘Cricket is a gentleman’s game’ fans in the house’:⬇️⬇️⬇️

रविचंद्रन अश्विन ने युवा और प्रोफेशनल क्रिकेटरों को लेकर कहा कि, 'लाखों क्रिकेटर हैं जिनके विचार अलग हैं। जो इस महान खेल को अपना करियर बनाने के लिए खेलते हैं, उन्हें सिखाते हैं कि आपको आउट करने के उद्देश्य से खराब थ्रो के कारण लिया गया एक अतिरिक्त रन आपका करियर बना सकता है और नॉन स्ट्राइकर द्वारा चुराया गया एक अतिरिक्त कदम आपका करियर खराब कर सकता है। अश्विन ने यह ट्वीट तंज कसते हुए लिखा और आगे कहा कि खिलाड़ियों को इन कारणों से भ्रमित न किया जाए।

There are millions of cricketers with several thought processes that play this great game to make it their careers, teach them that an extra run taken due to a poor throw aimed to get you out can make your career and an extra yard stolen by the non striker can break your career
Do not confuse them by telling them that you will be termed a good person if you refuse the run or warn the non striker, because all these people who are terming you good or bad have already made a living or they are doing what it takes to be successful elsewhere.

रविचंद्रन अश्विन ने आखिरी ट्वीट में लिखा कि मैदान पर दिल से और खेल के नियमों के भीतर खेलें और खेल खत्म होने के बाद हाथ मिलाएं, क्योंकि मुझे यही खेल भावना समझ आती है।

Give your heart and soul on the field and play within the rules of the game and shake your hands once the game is over. The above is the only ‘spirit of the game’ I understand.

Edited by Rahul

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
Article image

Go to article
App download animated image Get the free App now