Create

रिकी पोंटिंग ने राहुल द्रविड़ का एक मजेदार किस्सा सुनाया, अनोखे अभ्यास का किया जिक्र

Rahul
राहुल द्रविड़ ने सुपर सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ख़राब प्रदर्शन किया था
राहुल द्रविड़ ने सुपर सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ख़राब प्रदर्शन किया था

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम (Australia Cricket Team) के महान कप्तान रहे रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting) ने cricket.com.au से बात करते हुए भारतीय टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को लेकर एक मजेदार किस्सा सुनाया है। यह मजेदार किस्सा साल 2005 में खेली गई ऑस्ट्रेलिया बनाम विश्व XI के बीच हुई सीरीज का है। इस सीरीज में तीन एकदिवसीय व एक टेस्ट मैच खेला गया था। राहुल द्रविड़ विश्व XI का हिस्सा थे और इस दौरान बल्लेबाजी में अभ्यास करते समय उन्होंने फुटबॉल के जूते पहने, जिसकी कहानी रिकी पोंटिंग ने शेयर की।

यह भी पढ़ें - टीम इंडिया रचेगी टेस्ट क्रिकेट में इतिहास, 89 साल बाद होगा ये बड़ा रिकॉर्ड दर्ज

रिकी पोंटिंग ने यह मजेदार किस्सा सुनाते हुए कहा कि जब हम अभ्यास कर रहे थे तो मैदान गिला था। मैंने अपने खिलाड़ियों को सलाह दी कि वो फुटबॉल के जूते पहनकर फील्डिंग का अभ्यास करें, ताकि आपका पैर मैदान पर फिसले न और न ही धंसे। हमारी इस अनोखी ट्रेनिंग को विपक्षी टीम के खिलाड़ियों ने देखा और मैं यह कभी नहीं भूल सकता कि पहले मैच से पहले हम नेट्स करने के लिए गए, तो वहां राहुल द्रविड़ फुटबॉल के जूते पहन कर बल्लेबाजी कर रहे थे। क्रिकेट पिच पर फुटबॉल के जूते पहनकर अभ्यास करना कितना मुश्किल होता है, यह आप अंदाज़ा लगा सकते हैं।

रिकी पोंटिंग ने किस्सा आगे बताते हुए कहा कि हम राहुल के इस खास अभ्यास को देख रहे थे। उनका पैर जूते के कारन पिच पर बार-बार फिसल रहा था लेकिन वह लगातार पैर ज़माने की कोशिश में थे। फिर उन्होंने हम को देखा और कहा कि आप लोगों को भी यह अभ्यास करना चाहिए। हमने राहुल को जवाब देते हुए कहा कि लेकिन हम यह जूते केवल फील्डिंग करते हुए इस्तेमाल करते हैं। यह काफी मजेदार कहानी थी जो हमारे और राहुल द्रविड़ के साथ घटी।

राहुल द्रविड़ ने उस सुपर सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ख़राब प्रदर्शन किया था। एकमात्र टेस्ट मैच में वो दोनों पारियों में शून्य और 23 रन ही बना सके, तो उनसे एकदिवसीय सीरीज के तीनों मैचों में 46 रन ही बने।

Quick Links

Edited by Rahul
Be the first one to comment