"विराट कोहली के लिए समय आ गया है वो दिखाएं कि दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ बल्‍लेबाज हैं", शेन वॉर्न का बयान

शेन वॉर्न को उम्‍मीद है कि विराट कोहली अब शतक लगाएंगे
शेन वॉर्न को उम्‍मीद है कि विराट कोहली अब शतक लगाएंगे

विराट कोहली (Virat Kohli) और सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के बीच सभी समानताओं और तुलनाओं के बीच यह सबसे अलग है। 2007 में तेंदुलकर के 78 अंतरराष्‍ट्रीय शतक थे और तब वो अगले शतक के लिए तरस रहे थे। मार्च 2007 से लेकर जनवरी 2008 तक सचिन तेंदुलकर 90 की फेहरिस्‍त में सात बार आउट हुए जबकि तीन बार 99 के स्‍कोर पर पवेलियन लौटे।

चार साल बाद महान तेंदुलकर ने खुद को एक बार फिर उसी नाव पर पाया जहां 100वें शतक की इंतजार में निराशा बढ़ती जा रही थी। हालांकि, इन दोनों अवधि में तेंदुलकर बिना शतक के 12 महीने बिता सके थे। उन्‍होंने अपना 99वां शतक दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मार्च 2011 में विश्‍व कप में जमाया था।

फिर मार्च 2012 में वह अपना 100वां शतक पूरा करने में कामयाब हुए थे। वहीं कोहली को बिना शतक के दो साल और दो महीने गुजर चुके हैं। तेंदुलकर के समान कोहली शतक जमाने से अनजान नहीं है।

उन्‍होंने अब तक 70 शतक जमाए हैं और आधुनिक युग में उनके करीब कोई नहीं आया। 2019 में जब उन्‍होंने वेस्‍टइंडीज के खिलाफ एक के बाद एक लगातार शतक जमाए थे, तब लग रहा था कि बहुत ही जल्‍द वो तेंदुलकर के रिकॉर्ड को तोड़ देंगे।

मगर पिछले दो सालों में यह संभावना विराट कोहली के विकेट के साथ कम होती जा रही है। बायो-बबल लाइफ और वर्कलोड मैनेजमेंट भारतीय क्रिकेट का अतुल्‍नीय हिस्‍सा रहे। 33 साल के कोहली भी खुद को इस रेस से दूर समझ रहे हैं क्‍योंकि उनके 71वें शतक का इंतजार खत्‍म नहीं हुआ।

कोहली आगे चलकर शतक लगाएंगे: वॉर्न

मगर उम्‍मीद है, पहले से ज्‍यादा। कोहली अब किसी प्रारूप में कप्‍तानी नहीं कर रहे हैं तो उनके लिए शतक जमाने का इससे बेहतर समय और क्‍या होगा। ऐसा महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न का मानना है। कोहली संघर्ष नहीं कर रहे हैं। उस गलतफहमी को खिड़की के बाहर फेंक दो। टेस्‍ट में जहां शून्‍य पर आउट होने वाले नंबर में बढ़ोतरी हुई और उसकी औसत 2021 में 30 के अंदर आई। वनडे में उनके आंकड़े शानदार है। पिछली 16 पारियों में कोहली ने 10 अर्धशतक जमाए हैं। यह सच है कि कोहली अपनी महानता के बंदी बन चुके हैं।

वॉर्न ने हिंदुस्‍तान टाइम्‍स से बातचीत में कहा, 'बहुत ज्‍यादा उम्‍मीदे हैं। भारत का सभी प्रारूपों में कप्‍तान बनना बहुत मुश्किल है। फिर आईपीएल भी खेलना है। हर कोई लीडर के रूप में उनकी टिप्‍पणी चाहता है। इसलिए मेरा ध्‍यान विराट कोहली को बल्‍लेबाजी करते देखने पर है। किसी और को कप्‍तान बनते देखने के बाद से कोहली को खुलकर खेलते हुए देख सकते हैं। मैं वास्तव में इसके लिए उत्सुक हूं।'

Quick Links

Edited by Prashant Kumar