SA vs IND : 'वो ड्रॉप हो जाता है - केएल राहुल पर टिप्पणी के लिए ट्रोल होने के बाद पार्थिव पटेल ने मजेदार प्रतिक्रिया दी

Neeraj
केएल राहुल और पार्थिव पटेल (PIC: Instagram)
केएल राहुल और पार्थिव पटेल (PIC: Instagram)

भारत के पूर्व विकेटकीपर-बल्लेबाज पार्थिव पटेल (Pathiv Patel) ने दक्षिण अफ्रीका (SA vs IND) के खिलाफ टीम के आगामी बॉक्सिंग डे टेस्ट के लिए केएल राहुल को विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी सौंपे जाने पर आशंका व्यक्त की है।

ट्विटर पर सुझाव देते हुए उन्होंने कहा कि, 'टीम इंडिया को पार्ट टाइम विकेटकीपर नहीं चुनना चाहिए, बल्कि किसी ऐसे व्यक्ति को मौका देना चाहिए जो घरेलू क्रिकेट में नियमित रूप से विकेटकीपिंग करता हो। पटेल ने अपने ट्वीट में लिखा,

भारत का टेस्ट मैच विकेटकीपर ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जो रणजी ट्रॉफी या प्रथम श्रेणी क्रिकेट में नियमित रूप से कीपिंग करता हो।

हालाँकि, इस टिप्पणी के लिए उन्हें कई फैंस ने ट्रोल किया। एक फैन ने तो 2018 में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर उनके विकेटकीपिंग प्रदर्शन को भी उन्हें याद करवाया। बाएं हाथ के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ने उस ट्रोलर को जवाब देते हुए एक मजेदार रिप्लाई किया और लिखा,

तो वो ड्राप हो जाता है।

गौरतलब है कि 2018 में भारतीय टीम ने दक्षिण अफ्रीका का दौरा किया था। उस दौरान तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के दूसरे मैच में पार्थिव पटेल ने चोटिल रिद्धिमान साहा की जगह ली थी। मैच में दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी में डीन एल्गर का कैच छोड़ने के लिए उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा था।

"पिछले 5-6 महीनों में अच्छी तैयारी की है" - केएल राहुल के टेस्ट सीरीज में भारत के विकेटकीपर बनने पर राहुल द्रविड़

वाइट गेंद के फॉर्मेट में भारतीय टीम के लिए विकेटकीपर बल्लेबाजी की भूमिका निभाने के बाद केएल राहुल अब टेस्ट सीरीज में भी इस रोल को निभाने के लिए तैयार हैं। बॉक्सिंग डे टेस्ट से पहले हुई प्रेस कॉन्फ्रेन्स में राहुल द्रविड़ ने संकेत दिए कि केएल पारी की शुरुआत करते नजर आ सकते हैं।

उन्होंने कहा,

यह उनके (केएल राहुल) के लिए एक अलग चुनौती होगी जो रोमांचक रहेगी। इशान के उपलब्ध नहीं होने के कारण यह अवसर आया। हमारे पास चुनने के लिए कुछ कीपर हैं। राहुल बहुत आश्वस्त हैं और उन्हें आज़माने के लिए उत्सुक हैं। 50 ओवर तक विकेटकीपिंग करना और बल्लेबाजी करना निश्चित रूप से कठिन है। यह आपके शरीर से बहुत कुछ लेता है। उसने पिछले 5-6 महीनों में अच्छी तैयारी की है। शायद यहाँ स्पिन की तुलना में तेज गेंदबाजी अधिक होगी, इसलिए इससे उन्हें उस भूमिका में थोड़ी आसानी होगी।

Quick Links

Edited by Rahul