Create
Notifications

क्विंटन डी कॉक के संन्यास के बाद साउथ अफ्रीका की बल्लेबाजी और कमजोर हो गई है, हाशिम अमला का बयान

South Africa v India - First Test
South Africa v India - First Test
SENIOR ANALYST

साउथ अफ्रीका (South Africa Cricket Team) के दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक (Quinton de Kock) के संन्यास को लेकर पूर्व क्रिकेटर हाशिम अमला (Hashim Amla) ने बड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि टेस्ट क्रिकेट से डी कॉक के संन्यास के बाद दक्षिण अफ्रीका का बैटिंग लाइन अप और कमजोर हो गया है।

भारत के खिलाफ सेंचूरियन टेस्ट मैच के बाद अचानक क्विंटन डी कॉक ने टेस्ट क्रिकेट छोड़ने का फैसला किया। क्रिकट दक्षिण अफ्रीका ने ट्विटर पर ऐलान करते हुए बताया कि डी कॉक ने अपने परिवार के साथ समय बिताने के लिए तत्काल प्रभाव से टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया है।

क्विंटन डी कॉक ने अपने टेस्ट करियर में 54 मैचों में छह शतकों के साथ 38.82 की औसत से 3,300 रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका के मौजूदा खिलाड़ियों में सिर्फ डीन एल्गर के उनसे ज्यादा रन हैं लेकिन एल्गर की 31 पारियां ज्यादा हैं। संन्यास के बाद अब तय हो गया है कि डी कॉक सफेद गेंद क्रिकेट में ही खेलते हुए नजर आएंगे।

टेम्बा बवुमा को टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी करनी होगी - हाशिम अमला

हाशिम अमला के मुताबिक डी कॉक साउथ अफ्रीका के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक थे। उन्होंने अब टेम्बा बवुमा को बैटिंग ऑडर्र में और ऊपर आने की सलाह दी है। इसके अलावा कहा है कि ओपनर्स को ज्यादा देर तक खेलना होगा। हाशिम अमला ने कहा,

मिडिल ऑर्डर में हमारे दो बेस्ट बल्लेबाज टेम्बा बवुमा और क्विंटन डी कॉक हैं। डी कॉक ने अब टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया है और इससे बल्लेबाजी और कमजोर हो गई है। उनके संन्यास के बाद अब टेम्बा बवुमा के लिए ये जरूरी हो गया है कि वो और ऊपर आकर बैटिंग करें। उन्हें टीम में एंकर की भूमिका निभानी होगी। डीन एल्गर और एडेन मार्करम बेहतरीन बल्लेबाज हैं। उन्हें लंबे समय तक टिककर खेलना होगा।

Edited by सावन गुप्ता

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
Article image

Go to article
App download animated image Get the free App now