"बैजबॉल आक्रामक क्रिकेट नहीं है..." - रविचंद्रन अश्विन ने इंग्लैंड के एप्रोच को लेकर रखी अपनी बेबाक राय

India  v England - 4th Test Match: Day Three
India v England - 4th Test Match: Day Three

भारत और इंग्लैंड (IND vs ENG) के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का हाल ही में समापन हुआ। इस सीरीज में भारतीय टीम ने इंग्लैंड को बुरी तरह पटखनी दी और 4-1 के अंतर से ट्रॉफी पर कब्जा जमाया। इंग्लिश टीम का बैजबॉल एप्रोच काफी चर्चा में रहा और इसको लेकर अब भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने भी अपने विचार साझा किये हैं। अश्विन का मानना है कि इंग्लिश टीम भारत में आक्रामक क्रिकेट खेलने की मानिसकता के साथ आई और उसे अपने डिफेन्स पर भरोसा नहीं था।

इंग्लैंड ने अपने आक्रामक क्रिकेट से काफी चर्चा बटोरी थी और उनके लिए यह एप्रोच कारगर भी साबित हुआ था। हालाँकि, सभी जानकारों ने कहा था कि इसका असली टेस्ट भारतीय परिस्थितयों में होगा और वहां सफलता आसानी से नहीं मिलने वाली। कुछ ऐसा ही देखने को मिला और इंग्लैंड के बल्लेबाज जूझते नजर आये। परिणामस्वरूप टीम को सीरीज में अंतिम चार मुकाबलों में लगातार हार के कारण सीरीज भी गंवानी पड़ी।

अपने यूट्यूब चैनल पर साझा किये गए हालिया वीडियो में, रविचंद्रन अश्विन ने इंग्लैंड के बैजबॉल एप्रोच को लेकर कहा:

पहले टेस्ट के बाद एक बात जो मैंने व्यक्तिगत रूप से समझी वह यह है कि बैजबॉल सिर्फ आक्रामक क्रिकेट नहीं है, यह बिना डिफेन्स वाली क्रिकेट है। वे बिल्कुल भी डिफेंसिव शॉट नहीं खेलने जा रहे हैं। अगर वे डिफेंस खेलते हैं तो आउट होने वाले हैं।

अश्विन ने इस बात पर हैरानी जताई कि जो रुट जैसे अनुभवी बल्लेबाज ने भी टीम के लिए अपने स्वाभाविक गेम से छेड़छाड़ की। उन्होंने कहा:

मेरे आश्चर्य के लिए, जो रूट ने भी उनके गेम प्लान पर सहमति व्यक्त की। क्योंकि अगर आप वर्ल्ड क्रिकेट की सर्वश्रेष्ठ डिफेंस रैंकिंग को लेते हैं, तो जो रूट स्पिन के खिलाफ उस सूची में आसानी से पहले स्थान पर हैं।

गौरतलब हो कि रविचंद्रन अश्विन के लिए इंग्लैंड सीरीज काफी अच्छी रही। हालाँकि, शुरूआती मैचों में वह थोड़े फीके नजर आये लेकिन सीरीज में सबसे ज्यादा 26 विकेट लेने में कामयाब रहे। उन्होंने सीरीज के दौरान अपने करियर के 500 टेस्ट विकेट भी पूरे किये और भारत के लिए पारी में सबसे ज्यादा 36 बार पांच विकेट लेने का रिकॉर्ड भी बनाया।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar