Create
Notifications

'टेस्ट क्रिकेट खेलने से मना कर रहे हो, तो टी20 क्रिकेट भी खेलना छोड़ दो'

आमिर-वहाब
आमिर-वहाब
ANALYST

टेस्ट क्रिकेट को लचीलेपन और नेचुरल मांग का अंतिम रूप माना जाता है। इसलिए टेस्ट क्रिकेट खेलना खिलाड़ी के कौशल का प्रमाण है। कुछ पाकिस्तानी खिलाड़ियों द्वारा सबसे लंबे प्रारूप से निपटने के तरीके के बारे में बोलते हुए शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir) और वहाब रियाज़ (Wahab Riaz) पर कटाक्ष किया है।

मोहम्मद आमिर और वहाब रियाज ने इससे पहले खेल के छोटे प्रारूपों पर अधिक ध्यान केंद्रित करने के उद्देश्य से टेस्ट क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी। इस प्रकार खेल के फिटनेस पहलू को ध्यान में रखते हुए शोएब ने कहा कि वह अभी भी खिलाड़ी की फिटनेस का प्रबंधन करेंगे और उन्हें प्रशिक्षित करेंगे लेकिन उन्हें रेड-बॉल क्रिकेट पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है अन्यथा टी20 भी नहीं खेलना चाहिए।

शोएब अख्तर ने कहा कि मैं आपको संभाल लूंगा और स्टार बना दूंगा। मुझे एक साल में 12 टेस्ट चाहिए और मैं तुम्हें ट्रेनिंग दूंगा और सिखाऊंगा। फिर भी अगर वह जरूरी काम नहीं करते हैं, तो कोई केंद्रीय अनुबंध नहीं है। आप टी20 भी नहीं खेलेंगे।

शोएब अख्तर का पूरा बयान

शोएब अख्तर
शोएब अख्तर

पूर्व तेज गेंदबाज का मानना है कि अगर खिलाड़ियों द्वारा टेस्ट क्रिकेट को प्राथमिकता नहीं दी जा रही है तो उन्हें टी20 मैच भी खेलने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। पाकिस्तान क्रिकेट के भविष्य पर अपने विचार प्रकट करते हुए शोएब अख्तर ने कहा कि देश को युवाओं में अधिक निवेश करने का प्रयास करना चाहिए।

अख्तर ने कहा कि मैं उनसे कहूंगा कि वे टी20 मैच भी न खेलें और घर जाकर आराम करें। मैं 16 साल के बच्चों के साथ काम करना पसंद करूंगा। मैं पूरे पाकिस्तान से लड़कों को लाऊंगा और उनमें निवेश करूंगा।

गौरतलब है कि शोएब अख्तर पाकिस्तान क्रिकेट के बारे में खुलकर अपने विचार रखते हैं और बिना संकोच किये आलोचना भी करते हैं।

Edited by निरंजन
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now